सामान्य वर्ग के नेताओं को अपमानित करने के आरोप पर घिरी राजद, कहा – जाति की राजनीति हमारे DNA में नहीं

सामान्य वर्ग के नेताओं को अपमानित करने के आरोप पर घिरी राजद, कहा – जाति की राजनीति हमारे DNA में नहीं

PATNA : जगदानंद सिंह के इस्तीफे को लेकर पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी के आरोप के बाद अब राजद पूरी तरह से बचाव के मुद्रा में आ गई है। पार्टी के तमाम प्रवक्ता इस्तीफे की बात को न सिर्फ गलत ठहरा रहे हैं, बल्कि राजद पर लग रहे जातिवाद के आरोपों को गलत ठहरा रहे हैं। 

कुछ दिन पहले ही राजद की प्रदेश प्रवक्ता बनीं रितु जायसवाल ने कहा कि हमारी पार्टी जाति की राजनीति नहीं करती है। जाति की राजनीति करना उनके डीएनए में है। रितु जायसवाल ने कहा कि यह उनकी आदत में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि जिन दो नामों को लेकर राजद पर आरोप लग रहे हैं, उनके नाम के आगे सिंह लगा है। वह राजद में बेहद सम्मानीय हैं. पार्टी में उन्हें बड़े ही आदर से देखा जाता है। इसलिए यह सोचना भी बेकार है कि पार्टी में उनका सम्मान नहीं किया जाता है। 

रितु जायसवाल ने इस दौरान उपेंद्र कुशवाहा के उन बयानों पर जमकर हमला बोला, जिसमें उन्होंने राजद में टूट होने की बात कही थी। रितु जायसवाल ने कहा यह सिर्फ मुद्दों को भटकाने के लिए दिया गया बयान है, ताकि बिहार में बढ़ते अपराध, खस्ताहाल शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर उनसे कोई सवाल नहीं कर सके।


यह कहा था सुशील मोदी ने

दरअसल, राजद ने यह बचाव सुशील मोदी के उन आरोपों के बाद किया है, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि राजद में सामान्य वर्ग के नेताओं का सम्मान नहीं किया जाता है। सुशील मोदी ने कहा था कि सामान्य वर्ग के लोगों को 10 फीसद आरक्षण देने के मोदी सरकार के फैसले को सही ठहराने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह को जिस तरह "एक लोटा" पानी वाला बयान देकर अपमानित किया गया था, उसी तरह अब उसी समाज के जगदानंद को निशाना बनाया जा रहा है।

राबड़ी नहीं जगदानंद सरकार चला रहे थे

 सुशील मोदी ने कहा था कि मुख्य विपक्षी दल अब शहाबुद्दीन, राजबल्लभ यादव जैसे आपराधिक चरित्र के बाहुबलियों की नेचुरल सैंक्चुअरी ( प्राकृतिक अभयारण्य) बन चुका है। राजकुमार भूल गए कि जब लालू प्रसाद जेल गए थे और राबड़ी देवी मुख्यमन्त्री थीं, तब दरअसल सरकार जगदानंद ही चला रहे थे।

Find Us on Facebook

Trending News