लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद गुटबाजी का शिकार हुआ राजद, नाराज गुट ने अलग पार्टी बनाने का किया फैसला

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद गुटबाजी का शिकार हुआ राजद, नाराज गुट ने अलग पार्टी बनाने का किया फैसला

RANCHI : लोकसभा चुनाव में जहाँ बिहार में राजद को करारी हार का सामना करना पड़ा है. वही झारखण्ड में भी अब राजद गुटबाजी का शिकार हो गया है. राजद प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर अभय कुमार सिंह की ताजपोशी के बाद पार्टी दो फाड़ में बंट  गई है. इससे पहले गौतम सागर राणा गुट ने साफ कर दिया था कि केंद्रीय नेतृत्व को अपने फैसले पर एक सप्ताह के अंदर पुनर्विचार करना होगा नहीं तो पार्टी के पुराने पदाधिकारी कोई भी निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं. 

रविवार को समय सीमा समाप्त होने के राजद के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा की अध्यक्षता में विधानसभा के हॉल में बैठक हुई. बैठक में कई जिलों से आये राजद जिला अध्यक्ष और कार्यकर्ता शामिल हुए. वही बैठक में राजद केंद्रीय नेतृव से नाराज राणा गुट ने अलग पार्टी बनाने की घोषणा की. इस मौके पर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा ने कहा कि वर्षों तक पार्टी की सेवा करना और राजद सुप्रीमो लालू यादव के विचारधारा को जन जन तक पहुँचाने का काम निस्वार्थभाव से किया. 

लेकिन केन्द्रीय नेतृत्व ने वैसे लोगों को तरजीह दिया जो पार्टी की लुटिया डुबाने में लगे रहे. पार्टी के इस फैसले से आहत होकर नई पार्टी बनाने का निर्णय लिया गया है. दरअसल राजद के केंद्रीय नेतृत्व ने झारखंड राजद से गौतम सागर राणा को हटाने के बाद अभय कुमार सिंह को प्रदेश नेतृत्व का जिम्मा सौंपा है. इसके बाद बाद शीर्ष नेताओं के इस निर्णय के खिलाफ गौतम सागर राणा गुट ने मोर्चा खोल दिया. रांची के एक होटल में बैठक कर विक्षुब्ध गुट ने साफ कर दिया था कि एक सप्ताह के अंदर केंद्रीय नेतृत्व अपने फैसले पर पुनर्विचार करे नहीं तो पार्टी के पुराने पदाधिकारी कोई भी निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होंगे. 

इसके लिए 31 सदस्य समन्वयक समिति का भी गठन किया गया था जो इस विषय को लेकर केंद्रीय नेतृत्व से बात करेगा. लेकिन बात नही बनने पर राणा गुट ने अपनी नई राह चुन ली. इसके पहले भी लोकसभा चुनाव के ठीक पहले पूर्व राजद प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी भी पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गई थी. बीजेपी की टिकट पर जीत हासिल कर कोडरमा लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुनी गई. 

रांची से सुजीत की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News