छपरा में जहरीली शराबकांड को लेकर रालोजपा ने जताई नाराजगी, 17 दिसंबर को पटना में महाधरना का होगा आयोजन

छपरा में जहरीली शराबकांड को लेकर रालोजपा ने जताई नाराजगी, 17 दिसंबर को पटना में महाधरना का होगा आयोजन

PATNA : राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रवण कुमार अग्रवाल ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के बयान पीओगे तो मरोगे को बेहद ही शर्मनाक बताया। श्रवण अग्रवाल ने आगे कहा कि छपरा जिले में जहरीली शराब से चालीस से ज्यादा जाने जा चुकी हैं। चालीस से ज्यादा परिवारों में मौत का मातम पसरा हुआ है। छपरा जिला के इसुआपुर, मशरक, मढ़ौरा एवं अमनौर में जहरीली शराब से मरने वालों के घरों से चीख और चित्कार की आवाज सारा देश सुन रहा है। लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके उत्तराधिकारी उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव इनते असंवेदनशील और निष्ठुर हो गये हैं कि चालीस से ज्यादा मरने वाले परिवारों का आंसू पोंछने के बजाय शर्मनाक बयान दे रहे हैं। 


राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रवण अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की स्मरणशक्ति कमजोर हो गई है। लेकिन राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी नीतीश कुमार की स्मरण शक्ति को दुरूस्त कराना चाहती है कि उनको यह याद होना चाहिए कि नवंबर 2005 में वह मुख्मंत्री बने थे तो उन्होंने ही बिहार में शराब नीति में बड़ा बदलाव करते हुए बिहार के हर पंचायत में देशी और विदेशी कम्पोजिट शराब की दुकान और शहरों में बड़े पैमाने पर ऑन शराब की दूकानें खुलबायी थी। नीतीश कुमार ने राजस्व की उगाही के लिए राज्य में अपने मुख्यमंत्रित्व काल में लम्बे समय तक गाँव-गाँव मे शराब बेचवायी थी। 2016 से जो विफल शराबबंदी नीतीश कुमार ने राज्य में लागू किया। इस शराबबंदी नीति से बिहार को काफी नुकसान हुआ। 2016 के बाद से हजारों लोगों की जान जहरीली शराब से चली गई। जिसके कारण हजारों महिलायें विधवा हो गई एवं हजारों बच्चें शराबबंदी नीति से अनाथ हो गए। 

नीतीश कुमार का यह कथन कि उन्होनें महिलाओं की माँग पर शराबबंदी किया। पूरी तरह से बेतुका बकवास और झूठा है। राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि नीतीश कुमार यह बताए कि वैशाली के देसरी के आठ मासूम बच्चों को ट्रक ड्राईवर ने शराब पीकर कुचल कर मार डाला था। उन मासूम बच्चों ने शराब का नाम भी नही सुना था ना ही शराब पीया था। राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रवण कुमार अग्रवाल ने कहा कि छपरा के जिस इलाके में कल से लेकर आज तक जहरीली शराब से लोगों की मौत हुई है। इसी इलाके में जहरीली शराब से अठारह लोगों की मौत चार माह पहले हुई थी। 

राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी नीतीश कुमार से यह आग्रह करती है कि वे शराबबंदी के सवाल अपनी हठधर्मिता और जिद को त्याग कर शराबबंदी कानून पर पूर्नविचार करें। राष्ट्रीय प्रवक्ता अग्रवाल ने कहा कि छपरा जहरीली शराबकाण्ड को लेकर 17 दिसम्बर को राष्ट्रीय लोजपा एवं दलित सेना के पटना राज्य कार्यालय के आगे हजारों कार्यकर्ता महाधरना देगें। 17 दिसम्बर को आयोजित महाधरना में रालोजपा के प्रदेश अध्यक्ष सांसद प्रिंस राज पासवान, सांसद वीण देवी, सांसद महबूब अली कैसर, सांसद चंदन सिंह, विधान पार्षद भूषण कुमार एंव अन्य नेतागण शामिल होगें। महाधरणा की समाप्ति के बाद राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्या व केन्द्रीय खााद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री पशुपति कुमार पारस के नेतृत्व में सभी सांसद एवं पार्टी के नेताओं का प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल फागू चौहान से मिलकर राज्य में जहरीली शराब से हो रही मौत एवं छपरा जहरीली शराब कांड, राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर ज्ञापन सौंपा जायेगा।

Find Us on Facebook

Trending News