रालोसपा का जेडीयू में हाे सकता है विलय ! दोनों नेताओं की मुलाकात के बाद से ही लग रहे हैं राजनीतिक कयास

रालोसपा का जेडीयू में हाे सकता है विलय ! दोनों नेताओं की मुलाकात के बाद से ही लग रहे हैं राजनीतिक कयास

पटना... बिहार में नीतीश कैबिनेट के विस्तार से पहले सियासी हलचल तेज हो गई है। बताया जा रहा है कि कैबिनेट विस्तार से पहले उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा का नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू में विलय हो सकती है। वहीं उपेंद्र कुशवाहा नीतीश मंत्रिमंडल में शामिल हो सकते हैं। इस चर्चा को जदयू के प्रदेश अध्यक्ष सांसद बशिष्ठ नारायण सिंह के बयान से और बल मिला। दोनों नेताओं की मुलाकात के सवाल पर प्रदेश जदयू अध्यक्ष ने कहा कि दोनों नेता एक ही धारा से हैं। अगर दोनों एक साथ आ जाते हैं तो क्या हर्ज है। रालोसपा का विलय के सवाल पर प्रदेश अध्यक्ष यह कहते हुए बचने की कोशिश करते नजर आए कि कुछ कल पर भी छोड़िए। 

दरअसल, लोकसभा के बाद विधानसभा चुनाव में भी एक भी सीट नहीं जीत पाई रालोसपा अपनी राजनीतिक जमीन बचाने में जुटी है। इसी क्रम में पिछले दिनों रालोसपा प्रमुख ने एक अणे मार्ग में मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी। रालोसपा प्रवक्ता राजेश यादव के अनुसार दोनों नेताओं की मुलाकात दो दिसम्बर की रात में ही हुई है।


रालोसपा का इतिहास
रालोसपा का गठन साल 2013 में हुआ। 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी एनडीए खेमे में शामिल होकर तीन में से तीनों सीट पर जीत हासिल की। 2015 के चुनाव में एनडीए में रहते हुए 23 सीटों में से दो पर जीत हासिल की। 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी महागठबंधन में आ गई और पांच में से एक सीट पर भी जीत हासिल नहीं कर सकी। हाल के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने महागठबंधन से नाता तोड़कर एक अलग फ्रंट बनाया और 104 सीटों पर चुनाव लड़ी, लेकिन एक सीट पर भी जीत हासिल नहीं हुई।

Find Us on Facebook

Trending News