तेजस्वी बिना 'सवर्णों' के आशीर्वाद के नहीं बन सकते मुख्यमंत्री, RJD के वोट बैंक में हो चुकी है सेंधमारी-माधव आनंद

 तेजस्वी बिना 'सवर्णों' के आशीर्वाद के नहीं बन सकते मुख्यमंत्री, RJD के वोट बैंक में हो चुकी है सेंधमारी-माधव आनंद

PATNA: बिहार विधान सभा चुनाव में राजद सबसे बड़े दल के रूप में उभरा है। अब तेजस्वी प्रसाद यादव 15 जनवरी के बाद सूबे में धन्यावाद यात्रा ’निकालने की तैयारी में हैं. तेजस्वी यादव की तरफ से यात्रा निकाने जाने की घोषणा के बाद, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी  के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव माधव आनंद ने कहा है कि उन्हें जब तक सवर्णों का आशीर्वाद नहीं मिल जाता,तब तक वे बिहार का मुख्यमंत्री नहीं बन सकते।

राजद का आधार वोट नहीं रहा सुरक्षित

माधव आनंद ने आगे कहा कि तेजस्वी यादव धन्यवाद यात्रा निकालें या कोई दूसरी यात्रा उससे आरएसएसपी को कोई लेना-देना नहीं । यह उनकी व्यक्तिगत सोच और उनके दल का मामला है। लेकिन इतना जरूर है कि उनकी इस रणनीति से कोई फायदा नहीं होगा। आरएलएसपी नेता ने कहा कि लोग उनकी बात नहीं सुनेने वाले हैं. अब तो राजद का परंपरागत वोट बैंक भी टूट गया है। नेता प्रतिपक्ष से कहना चाहता हूं या वो भी समझ रहे होंगे कि उनके वोट बैंक में सेंधमारी हो चुकी है।

सवर्णों के आशीर्वाद बिना नहीं बन सकते CM

उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव तब तक मुख्यमंत्री नहीं बन सकते जब तक सवर्णों का आशीर्वाद नहीं मिल जाता। अगर आप सोच रहे होंगे कि बिना सवर्णों के वोट के मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचेंगे तो यह संभव नहीं है। माधव आनंद ने कहा कि उच्च जाति के लोग तेजस्वी के साथ नहीं हैं. तेजस्वी यादव सवर्णों को लेकर नई रणनीति बनाएं तभी उनका सपना साकार हो सकता है। 

 सीमांचल में राजद कमजोर
इस बार के बिहार विधानसभा चुनाव में, RLSP, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन, बहुजन समाज पार्टी गठबंधन को यादव, अल्पसंख्यक, पिछड़े समाज से काफी वोट मिले। राजद 
बिहार विधानसभा चुनाव में 75 सीटें जीतने के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सामने आई है। वहीं ओवैसी की पार्टी ने सीमांचल में राजद को बड़ा झटका दिया है। इस बार ओवैसी के दल से 5 विधायक चुन कर आये हैं.

Find Us on Facebook

Trending News