युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने जरुरतमंदों को बांटे राशन सामग्री

युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने जरुरतमंदों को बांटे राशन सामग्री

बक्सर. युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने कहा की हम लगातार गरीब को मुख्यधारा से जोड़ने के लिए प्रयास कर रहे हैं. रोहित सिंह ने कहा की बक्सर भगवान राम की ज्ञानस्थली है, यहाँ के लोगों को किसी भी प्रकार का कष्ट नहीं होने देंगे. उन्होंने कहा की कोविड महामारी का समय हो या बाढ़ की विभीषिका युवा चेतना ने जनता का साथ दिया है. उन्होंने कहा की हम राजनीति में नहीं सेवानीति में विश्वास रखते हैं.

उन्होंने कहा की राजनीतिक दल और चुनावी नेता चुनाव के समय वोट के लिए सारंगी बजाते हैं और फिर गायब हो जाते हैं, लेकिन युवा चेतना सालो भर निस्वार्थ जनता के लिए तत्पर है. उन्होंने कहा की पूरे शाहाबाद में युवा चेतना के संगठन को सशक्त करने के लिए अभियान चलाया जाएगा. देश की आजादी के 75 सालों के बाद भी जनता रोटी,कपड़ा और मकान से बाहर नहीं आ पाई है. हम शिक्षा घर-घर तक पहुँचाकर आत्मनिर्भर भारत बनाना चाहते हैं.

उन्होंने कहा कि हम जात नहीं जमात बनाना चाहते हैं. गरीब की लड़ाई को पूरा ताकत के साथ लड़ना है. हम जेपी, लोहिया और राजनारायण के दिखाए रास्ते पर चलकर भारत को विश्व गुरु बनाने का संकल्प पूरा करेंगे. इस अवसर पर मोहन सिंह,अजय राय मुन्ना, बैजू राय, सुरेश यादव, राजू ठाकुर, जितेंद्र पासवान, आदित्य चौबे, वेद पांडेय, मो. शमिम आदि उपस्थित रहे.

डुमरांव में युवा चेतना के कार्यकर्ताओं ने युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह का भव्य स्वागत किया. डुमरांव में युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने कहा की भारत की आबादी का 65 प्रतिशत हिस्सा युवा वर्ग का है. उन्होंने कहा कि युवा वर्ग को समृद्ध बनाने हेतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राष्ट्रीय युवा आयोग का गठन करना चाहिए 

अति पिछड़ा,महादलित वर्गों के लिए आयोग हो सकता है तो देश के सबसे महत्वपूर्ण वर्ग युवा के लिए आयोग क्यों नहीं है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी को 2-2 बार प्रधानमंत्री बनाने में युवा वर्ग ने भूमिका निभाई थी परंतु अबतक उनके संरक्षण हेतु आयोग नहीं बना. मोदी सरकार को राष्ट्रीय युवा आयोग के गठन का मार्ग प्रशस्त करना चाहिए. भारतीय राजनीति में परिवारवाद का प्रभाव बढ़ गया है अब युवाओं को संगठित होकर भाई-भतीजावाद के ख़िलाफ़ संघर्ष करना होगा.

Find Us on Facebook

Trending News