अग्निपथ के खिलाफ बिहार के कई शहरों में शुरू हुआ बवाल, सेना में 4 साल की भर्ती का विरोध शुरू, मुजफ्फरपुर, बक्सर, बेगूसराय में जोरदार हंगामा

अग्निपथ के खिलाफ बिहार के कई शहरों में शुरू हुआ बवाल, सेना में 4 साल की भर्ती का विरोध शुरू, मुजफ्फरपुर, बक्सर, बेगूसराय में जोरदार हंगामा

पटना. मोदी सरकार द्वारा सेना में भर्ती नियम बदलने के फैसले के खिलाफ बिहार के कई शहरों में बवाल शुरू हो गया है. सेना के तीनों अंगों के अग्निवीर योजना के तहत मात्र 4 साल की बहाली का राज्य के युवा जोरदार विरोध कर रहे हैं. युवाओं का कहना है कि केंद्र सरकार हमारे भविष्य से खेल रही है और नौकरी के नाम पर गुमराह किया जा रहा है. अग्निपथ के नाम पर युवाओं का भविष्य खराब किया जा रहा है. 

मुजफ्फरपुर में सेना भर्ती के नए नियम का विरोध कर रहे युवाओं ने बुधवार को सेना भर्ती बोर्ड के कार्यालय के बाहर हंगामा किया. वहीं, बक्‍सर में सेना भर्ती की तैयारी करने वाले युवाओं ने ट्रेनों का परिचालन बाधित किया है. बेगूसराय में भी हंगामा किया है. खासकर बक्‍सर रेलवे स्टेशन पर छात्रों ने खूब बवाल काटा है. बड़ी संख्या में जुटे युवाओं ने रेल पटरी पर बैठ कर ट्रैक को करीब जाम कर दिया. करीब 45 मिनट तक रेल ट्रैक जाम रहने के कारण बक्सर में जनशताब्दी एक्सप्रेस काफी देर तक खड़ी रही. 

बेगूसराय में हर हर महादेव चौक पर हंगामा कर रहे युवाओं ने अग्निवीर योजना को तत्काल वापस लेने और पुराने नियम के तहत ही सेना बहाली करने की मांग की. 

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि अग्निवीर के तहत पहले साल में करीब 46 हजार युवाओं की तीनों सेनाओं में भर्ती होगी. रोजगार के पहले वर्ष में एक ‘अग्निवीर’ का मासिक वेतन 30,000 रुपये होगा, लेकिन हाथ में केवल 21,000 रुपये ही आएंगे. हर महीने 9,000 रुपये सरकार के समान योगदान वाले एक कोष में जाएंगे. इसके बाद दूसरे, तीसरे और चौथे वर्ष में मासिक वेतन 33,000 रुपये, 36,500 रुपये और 40,000 रुपये होगा. प्रत्येक ‘अग्निवीर’ को ‘सेवा निधि पैकेज’ के रूप में 11.71 लाख रुपये की राशि मिलेगी और इस पर आयकर से छूट मिलेगी.

Find Us on Facebook

Trending News