कार्यकर्ता की पत्नी के शोक में शामिल होने जा रहे इस सांसद की हत्या की रची गई थी साजिश, इस तरह हुआ नाकाम

कार्यकर्ता की पत्नी के शोक में शामिल होने जा रहे इस सांसद की हत्या की रची गई थी साजिश, इस तरह हुआ नाकाम

औरंगाबाद। मिलिट्री इंटेलिजेंस की सावधानी से एक बड़े राजनीतिक हत्या की साजिश को नाकाम कर दिया गया है। बताया गया कि औरंगाबाद सांसद सुशील सिंह की हत्या की साजिश रची गई थी। बताया गया कि सांसद सुशील एक शोक सभा में शामिल होने के लिए जा रहे थे. जहां रास्ते में पहले से घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने हमले की योजना बनाई थी, लेकिन समय रहते मिलिट्री को इसकी जानकारी मिल गई और सांसद को रास्ते में ही रोक दिया गया। जिसके बाद वह वापस लौट गए। औरंगाबाद सांसद ने भी इस बात की पुष्टि की है। 

मामले में मिली जानकारी के अनुसार अपने एक समर्थक की पत्नी की हत्या हो गई थी, जिसमें शोक व्यक्त करने के लिए सांसद इमामगंज प्रखंड के अंतर्गत पथरा गांव जा रहे थे। इसी दौरान दानापुर मिलिट्री इंटेलिजेंस को इस बात की जानकारी मिली कि नक्सलियों की टीमहथियार और विस्फोटकों के साथ रानीगंज और पथरा के बीच सांसद पर हमला करने की तैयारी में है। नक्सलियों के मंसूबे का पता चलते ही मिलिट्री इंटेलिजेंस के अधिकारियों ने तुरंत बिहार पुलिस के वरीय अधिकारियों के साथ ही सांसद से संपर्क किया। 

घर से निकल चुके थे सांसद


जब तक पुलिस को इस बात की जानकारी मिली, तब तक सांसद सुशील सिंह घर से निकल चुके थे। सांसद ने बताया कि रानीगंज से पहले  दानापुर से मिलिट्री इंटलिजेंस के अधिकारी का फोन आया। जिसमें हमले की जानकारी दी गई और पथरा जाने से मना कर दिया गया। जिसके बाद मैं वापस घर लौट गया।

जांच में जुटी पुलिस
नक्सलियों के इलाके में मौजूद होने की जानकारी मिलने के बाद पुलिस और सीआरपीएफ की अलग-अलग टीमें छापेमारी में जुट गई थीं। औरंगाबाद के रफीगंज पुलिस की विशेष ने कुख्यात रविरंजन पासवान उर्फ अवधेश सहित तीन को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। पुलिस इस गिरफ्तारी के संबंध में फिलहाल कुछ नहीं बोल रही है, पर तीनों की गिरफ्तारी को सांसद पर हमले की योजना से जोड़कर देखा जा रहा है।

Find Us on Facebook

Trending News