Bihar Crime News : शराबबंदी के बाद सूखे नशे यानी स्मैक, चरस व नशीले ड्रग्स के चंगुल में फंस रहें है युवा

Bihar Crime News : शराबबंदी के बाद सूखे नशे यानी स्मैक, चरस व नशीले ड्रग्स के चंगुल में फंस रहें है युवा

कटिहार:बिहार में शराबबंदी निश्चित तौर पर एक बड़ा कदम है, इसकी सफलता और असफलता को लेकर कई स्तर पर अभी भी चर्चाएं जारी है. लेकिन इस बीच शराबबंदी के बाद वैकल्पिक नशा के तौर पर कटिहार में समैक के नशा की कल्चर जिस तरह से तेजी से पैर पसार रहा है और युवा पीढ़ी जिस तरह से इसके जद में आ रहे हैं यह बेहद चिंतनीय हैं. हर दिन कई सार्वजनिक स्थल और छुपे हुए स्थानों में स्मैक का ठेक सजता है.

 हमारे  खुफिया कैमरे में कैद यह तस्वीर महमूद चौक और दो नंबर कॉलोनी इलाके से है जहां बंद कमरे में हर दिन इस तरह से नशे की टेक सजती है, कैमरे पर ही अपने कबूल नामे में युवक जो कि नशे की सप्लायर है, अपने गुनाह तो नहीं काबुल रहे हैं लेकिन स्मैक लेने की बात को स्वीकार रहे हैं. 

अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कहते हैं कि पुलिस ऐसे अड्डे पर छापेमारी तो करते हैं लेकिन इसके लिए सामाजिक पहल की भी जरूरत है ताकि शराबबंदी के बाद कई तरह के वैकल्पिक नशे की लत से युवा पीढ़ियों को बचाया जा सकेसामाजिक कार्यकर्ता सूरज गुप्ता कहते हैं निश्चित तौर पर यह सिर्फ पुलिस और कानून का विषय नही है बल्कि सामाजिक स्तर पर भी जागरूकता चलाकर नशे की जद में जा रहे हैं युवा पीढ़ी को बचाना हर किसी की जिम्मेदारी है. युवा देश के भविष्य होते है और नशा के तस्कर नशा बाट कर देश के भविष्य को खत्म कर रहें है सरकार को सख्त से शख्त कदम उठाना चाहिए.

Find Us on Facebook

Trending News