समाजसेवी सर्वेश तिवारी ने बाढ़ पीड़ित गरीब परिवारों को दिया नया आशियाना, 30 घरों का कराया निर्माण

समाजसेवी सर्वेश तिवारी ने बाढ़ पीड़ित गरीब परिवारों को दिया नया आशियाना, 30 घरों का कराया निर्माण

MOTIHARI: कोरोना महामारी के दौरान आई बाढ़ ने पूर्वी चम्पारण के  गोविंदगंज क्षेत्र के कई परिवारों के लिए मुसीबतें बढ़ा दी थी। बाढ़ और भारी बारिश के कारण अपना घर खो चुके परिवारों की मदद के लिए समाजसेवी सर्वेश तिवारी आगे आये हैं.पीड़ित परिवारों को नया घर देने के लिए उन्होंने बांस से बने 30 घरों का निर्माण करवाया। 

बता दें कि,समाजसेवी सर्वेश तिवारी के प्रयासों से मझरियां के अलावा भाजा टोला, बनकट, बिशुनपुर मटीयरवा, पश्चिमी सरैया, पूर्वी सरैया आदि गांवों में भी नए घरों का निर्माण व टूटे मकानों की मरम्मती करवाई गई है। बाढ़ से पीड़ितों परिवारों के बीच सुव्यवस्थित ढंग से घर सौंपा जाके इसके लिए 4 लोगों की एक टीम बनाकर सर्वे करवाया गया है और पूरी प्रक्रिया जांच परख कर की गई है।

इस अवसर पर जरूरतमंदों की मदद के लिए हमेशा आगे रहने वाले समाजसेवी व सक्षम चम्पारण के संस्थापक सर्वेश तिवारी ने कहा कि, "घर किसी भी व्यक्ति की बुनियादी आवश्यकता होती है। बाढ़ ने जिस तरह से इस क्षेत्र के सैकड़ों लोगों का घर तबाह किया वह हृदयविदारक था। बाढ़ के समय चलाए गए राहत अभियान के दौरान मैंने महसूस किया कि कई परिवारों के पास सर छिपाने के लिए भी कोई जगह नहीं बचा है। उनके दर्द को अपना दर्द मानते हुए मैंने 30 घरों का निर्माण और कई क्षतिग्रस्त घरों की मरम्मती  करवाया है। आज पांच ऐसे बाढ़ पीड़ित गरीब परिवारों को उनका नया घर सौंपा गया है। यह पहल न केवल बाढ़ पीड़ितों की ज़िंदगी को पटरी पर लाने का काम करेगा, बल्कि सक्षम लोगों को जरूरतमंद लोगों की मदद को आगे आने के लिए भी प्रेरित करेगा।”

इस पहल से लाभान्वित होने वाले मझरियां निवासी दहाड़ी राम ने बताया, "बाढ़ के कारण जब हमारा घर ढ़ह गया था तो हम यह उम्मीद छोड़ चुके थे कि दोबारा से घर बना पाएंगे। ऐसे मुश्किल समय में सर्वश बाबू देवता की तरह आए हैं। नया घर देकर उन्होंने हमारे परिवार को बिखरने से बचा लिया है। उनका जितना धन्यवाद कहें कम होगा।" 

 इन्हें मिला नया आशियाना

मझरियां गांव के जिन पांच लोगों को नया घर मिला उनमें वार्ड नं- 07 से दहाड़ी राम (पिता- घुटु राम), घरभरण  कुँवर (पति-स्व.सथुनी राम), उम्दा शर्मा (पिता-लगनदेव शर्मा) व वार्ड नं- 10 से राधिका कुँवर (पिता- स्व. राजा यादव) और  वार्ड नं- 10 से ही शिवशंकर गौरी (पिता- जटाशंकर गौरी) शामिल हैं। 

मालूम हो कि विभिन्न प्रमुख नदियों का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर है। जिसने पूर्वी चंपारण, दरभंगा, मुज़फ़्फ़रपुर और सारण समेत बिहार के कई जिलों को प्रभावित किया है। बिहार में बाढ़ ने 16 जिलों के 81.59 लाख लोगों को प्रभावित किया है। इसके अलावा 7.5 लाख हेक्टेयर में फैली हुई खड़ी फसलों को भी काफी नुकसान पहुंचाया है। ऐसे समय में बाढ़ से पीड़ित बिहार की जनता की मदद के लिए बढ़ रहा हर हाथ महत्वपूर्ण है।

Find Us on Facebook

Trending News