5 दिन के सीएम रहे सतीश प्रसाद सिंह को भी मिला था आजीवन सरकारी बंगला, कोर्ट के आदेश के बाद करना होगा खाली

5 दिन के सीएम रहे सतीश प्रसाद सिंह को भी मिला था आजीवन सरकारी बंगला, कोर्ट के आदेश के बाद करना होगा खाली

PATNA : महज 5 दिन बिहार के सीएम रहे सतीश प्रसाद सिंह अब सरकार की ओर से मिले आजीवन सरकारी बंगले से महरूम होंगे। उन्हें अब सरकारी बंगले को खाली करना होगा। नीतीश सरकार द्वारा सभी पूर्व सीएम को आजीवन सरकार बंगला दिए जाने के ऐलान के बाद महज 5 दिन बिहार के सीएम रहे सतीश प्रसाद सिंह को बंगला मिला था और वे इसमें तकरीबन 5 साल से रह रहे है। 

दरअसल आज मंगलवार को पटना हाईकोर्ट ने बिहार के पूर्व सीएम को बड़ा झटका देते हुए बंगला खाली करने का फैसला सुनाया है। कोर्ट के इस फैसले से सूबे के 5 पूर्व सीएम प्रभावित होंगे। हाईकोर्ट के इस फैसले से लालू यादव, राबड़ी देवी, सतीश प्रसाद सिंह, डा. जगन्नाथ मिश्रा, जीतन राम मांझी को झटका लगा है।

हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा है कि अब बिहार में सभी पूर्व सीएम को सरकारी आवास खाली करना होगा। बिहार के पूर्व सीएम को आजीवन सरकारी बंगले की सुविधा को खत्म करने की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है।
 
 मामले पर चीफ जस्टिस एपी शाही की खंडपीठ ने ये फैसला सुनाया है जिसके बाद कोर्ट के इस निर्देश के बाद कई पूर्व मुख्यमंत्रियों से बंगला छिन जाएगा। 

सतीश प्रसाद सिंह सिर्फ 5 दिन के सीएम

बता दें कि सबसे कम दिन बिहार के सीएम के पद पर रहे हैं। वे 28 जनवरी 1968 से लेकर 01 फरवरी 1968 तक ही बिहार की गद्दी पर रहे हैं।पूर्व सीएम महामाया प्रसाद सिंह के हटने के बाद खाली जगह को भरने के लिए सतीश प्रसाद सिंह को 28 जनवरी 1968 को सीएम का पद दिया गया।लेकिन अगले पांच दिनों बाद यानी 1 फरवरी को उनको सीएम की गद्दी से हटाकर बीपी मंड़ल को बिहार का नया मुख्यमंत्री की शपथ दिला दी गई।

कौन कितने दिन रहा है सीएम

 1. सतीश प्रसाद सिंह : 28 जनवरी 1968 से 01 फरवरी 1968 तक
 2. जगन्नाथ मिश्र 11 अप्रैल 1975 से 30 अप्रैल 1977
 3. जगन्नाथ मिश्र : 08 जून 1980 से 14 अगस्त 1983
 4. जगन्नाथ मिश्र : 06 दिसंबर 1989 से 10 मार्च 1990 तक
 5. लालू प्रसाद : 10 मार्च 1990 से 03 अप्रैल 1995,
 6. लालू यादव : 04 अप्रैल 1995 से 25 जुलाई 1997 तक
 7. राबड़ी देवी 25 जुलाई 1997 से 11 फरवरी 1999,
 8. राबड़ी देवी : 09 मार्च 1999 से 02 मार्च 2000,
 9. नीतीश कुमार : 03 मार्च 2000 से 10 मार्च 2000
 10. राबड़ी देवी : मार्च 2000 से फरवरी 2005
 11. नीतीश कुमार : नवंबर 2005 से मई 2014 तक 

12. जीतनराम मांझी : मई 2014 से करीब 9 महीने तक

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News