अंबेडकर हॉस्टल में दलित छात्रों पर गोलीबारी की जांच करने पहुंची अनुसूचित जाति आयोग की टीम, दोषियों पर हो सकती है बड़ी कार्रवाई

अंबेडकर हॉस्टल में दलित छात्रों पर गोलीबारी की जांच करने पहुंची अनुसूचित जाति आयोग की टीम, दोषियों पर हो सकती है बड़ी कार्रवाई

PATNA : बीते 18 सितंबर को राजधानी पटना के सुल्तानगंज थाना क्षेत्र के महेन्द्रु स्थित अंबेडकर छात्रावास में हुई गोलीबारी की घटना को केंद्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने गंभीरता से लिया है। जिस तरह से छात्रावास में घुसकर आधी रात को यहां रहनेवाले छात्रों को गोली मारी गई, उसके बाद अब आयोग की एक टीम मामले की जांच के लिए पटना पहुंची है। माना जा रहा है आयोग की तरफ से अब मामले में बड़ी कार्रवाई की जा सकती है। 


इस मामले में आयोग की सदस्य अंजूबाला ने अंबेडकर छात्रावास पहुंचकर यहां रहनेवाले दूसरे छात्रों से पूरे मामले को लेकर बात की है। साथ ही पूरी घटना की सीसीटीवी फुटेज भी सौंपने के लिए पुलिस को निर्देश दिए गए है, ताकि मामले की निष्पक्ष जांच कर सकें। इस दौरान आयोग की सदस्य अंजूबाला ने हॉस्टल के सभी छात्रों को यह आश्वासन दिया है कि हॉस्टल में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो। इस बात की पूरी व्यवस्था की जाएगी कि छात्र यहां भयमुक्त वातावरण में पढ़ाई कर सकें।

दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई

अनुसूचित जाति आयोग की टीम ने बताया कि इस पूरे मामले की बारिकी से जांच की जाएगी और गोलीबारी में जो लोग भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं जो भी पुलिसकर्मी इस मामले में दोषी होंगे उनके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि बीते 18 सितंबर की  आधी रात में अम्बेडकर छात्रावास में गोलीबारी की घटना हुई थी। जिसमें तीन छात्र घायल हो गए थे। इस पूरे मामले में पहले पुलिस ने गोलीबारी की घटना से इनकार किया, लेकिन बाद में जब सुशील मोदी और जनक राम ने इस पूरे मामले को लेकर घायलों से मिलने पहुंचे तो पुलिस ने गोलीबारी की घटना को कबूल किया. लेकिन इसके बाद पुलिस ने छात्रों पर ही यह आरोप लगा दिया कि उन्होंने एक युवती से छेड़खानी की थी, जिसके कारण गोलीबारी की घटना हुई थी। 


Find Us on Facebook

Trending News