सुरक्षाबलों के हौसले बुलंद, प्रतिकूल मौसम में भी नक्सल विरोधी अभियान में डटे हैं वीर जवान

सुरक्षाबलों के हौसले बुलंद, प्रतिकूल मौसम में भी नक्सल विरोधी अभियान में डटे हैं वीर जवान

PATNA: नक्सलियों के खिलाफ अभियान में लगे सुरक्षाबलों को बरसात के मौसम में दोहरी चुनौती की सामना करना पड़ता है। बिहार के घोर नक्सल प्रभावित इलाकों में नक्सल विरोधी अभियान के दौरान बरसात में सुरक्षाबलों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बिहार-झारखंड के सीमावर्ती इलाके भगौलिक रूप से कठिन हैं। बरसात के महीने में फिसलन होने से भी ऑपरेशन में लगे जवानों को काफी दिक्कत होती है। 

पहाड़ और जगंलों का फायदा हमेशा से नक्सली उठाते रहे हैं। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में इन इलाकों में भी नक्सलियों के लिए पनाह लेना मुश्किल हो गया है। इसकी वजह सुरक्षाबलों की मुस्तैदी है। बरसात के मौसम में पहाड़ी नाले में पानी का बहाव काफी तेज होता है। जगह-जगह ऐसे नाले मिलते हैं जो सुरक्षाबलों की मुश्किलें बढ़ाते हैं।नाले में पानी भर जाने के कारण सुरक्षाबलों को इसको पार करने में कठिनाई होती है।

पहाड़ी इलाका होने के कारण एक तो नालों में पानी का बहाव काफी तेज होता है दूसरे बारिश के चलते चट्टानों पर फिसलन का खतरा हमेशा बना रहता है। इससे उबड़-खाबड़ रास्ते पर सुरक्षाबलों को काफी संभलकर आगे बढ़ना होता है। इससे उनकी रफ्तार भी कम हो जाती है और ऑपरेशन चलाने में परेशानी होती है।

बरसात के मौसम में घने जंगल और पेड़-पौधों के हरे-भरे होने के चलते दूर तक नहीं दिखता। इसके चलते सुरक्षाबलों को अतिरिक्त सावधानी बरतनी पड़ती है। 

तमाम परेशानी के वाबजूद सुरक्षाबल के जवान लगातार नक्सल विरोधी अभियान पर डटे रहते हैं। सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के खिलाफ काफी सफलता पायी है। नक्सल विरोधी अभियान लगातार चलाते रहने की वजह से ही आज बिहार में नक्सली गतिविधियां काफी सीमित हो गई है। 

Find Us on Facebook

Trending News