सेल्फी का शौक : तैरना नहीं जानने के बाद भी युवकों ने ऊंचाई से नदी में लगा दी छलांग, एक ने गंवाई जान

सेल्फी का शौक : तैरना नहीं जानने के बाद भी युवकों ने ऊंचाई से नदी में लगा दी छलांग, एक ने गंवाई जान

DHANBAD : सेल्फी की लत ऐसी होती है कि कई बार लोग इसमें अपनी जान की परवाह भी नहीं करते है। कई बार यह लापरवाही भारी पड़ जाती है। जैसा कि धनबाद जिले से सामने आया है। यहां तीन युवक, जिन्हें तैरना भी नहीं आता था, इसके बावजूद उन्होंने अपने सेल्फी वीडियो के शौक को पूरा करने के लिए ऊंचाई से गहरी नदी में छलांक लगा दी। इनमें से दो युवक किसी तरह नदी से बाहर निकल आए, लेकिन एक युवक पानी से बाहर नहीं आ सका। दोनों युवक उसके बाहर आने का काफी देर तक इंतजार करने के बाद वापस चले गए। इस दौरान उन्होंने किसी को भी युवक के डूबने की जानकारी तक नहीं दी। घटना की जानकारी तब मिली जब सोमवार को युवक का शव नदी में तैरती हुई मिली.

मामले में बताया गया कि धनबाद के पुराना बाजार में एक कपड़े की दुकान में सेल्समैन का करनेवाला मोकिम रविवार की दोपहर डेढ़ बजे अपने दो साथियों जसीम एवं जुनैत के साथ आसनबनी के पास खुदिया नदी में नहाने गया था। इसकी जानकारी घरवालों को नहीं दी। नदी के पास मौजूद कुछ लोगों ने बताया कि तीनों नदी में ऊपर से छलांग मार कर नहा रहे थे। तीनों कैमरा वगैरह लेकर गए थे और छलांग मारने का वीडियो भी बना रहे थे लेकिन तीनों में से किसी को तैरना नहीं आता था। इसी छलांग मारनेवाले वीडियो बनाने के चक्कर मोकिम नदी में डूब गया। जब मोकिम ऊपर नहीं आया तो दोनों दोस्त चुपचाप निकल गए। यहां तक कि मोकिम के घर में भी किसी को इसकी जानकारी नहीं दी। शाम हो जाने के बाद भी मोकिम जब घर नहीं लौटा तो परिवार के लोग चिंतित हो गए। उसकी मां ने अमरपुर पंचायत के मुखिया पति गब्बर अंसारी को सूचना दी। 

नदी में मिली लाश

 इस बीच सोमवार की सुबह लोगों की नजर नदी में उतराते शव पर गई। इसकी सूचना पाकर गब्बर अंसारी, झामुमो नेता एजाज अहमद, माथुर अंसारी, भाजपा नेता जहीर अंसारी समेत दर्जनों ग्रामीण पहुंचे। थाना से पहुंचे एसआई नवल प्रकाश की मौजूदगी में शव को बाहर निकाला गया। बताया गया कि मोकिम के शव के चेहरे व कुछ अन्य जगहों पर जख्म के निशान थे। आशंका है कि छलांग लगाते समय पत्थर से टकरा कर चोट लगी होगी। गाद व किसी चट्टान में फंस कर मोकिम पानी के अंदर ही रह गया। रात भर पानी में रहने के कारण चेहरे को मछलियों ने कुतर दिया था। उक्त जगह पर मछलियां अधिक हैं।

तीन महीने पहले हुई थी शादी
मोकिम की शादी तीन माह पूर्व ही जामताड़ा जिले के नारायणपुर के जुम्मन मोड़ में हुई थी। वह सात भाइयों और तीन बहनों में पांचवें नंबर पर था। घटना के बाद से ही कुरैशीनगर में मातम है। मां शमीमा खातून व पत्नी रोशन खातून का बुरा हाल है। मुखिया पति गब्बर अंसारी ने जब मोकिम के दोस्त जुनैद व जसीम से पूछताछ की तो दोनों ने बताया कि घटना के बाद वे काफी डर गए थे, इसलिए किसी को कुछ नहीं बताया। 


Find Us on Facebook

Trending News