विद्यार्थियों के व्यक्तिव एवं भावी नेतृत्व की क्षमता को विकसित करने के लिए एसजीटी यूनिवर्सिटी संकल्पबद्ध

विद्यार्थियों के व्यक्तिव एवं भावी नेतृत्व की क्षमता को विकसित करने के लिए एसजीटी यूनिवर्सिटी संकल्पबद्ध

News4Nation : एसजीटी यूनिवर्सिटी में उपलब्ध सभी सुविधाओं के साथ प्रवेश लेने वाले सभी विद्यार्थियों के व्यक्तिव को विकसित करने के लिए यूनिवर्सिटी संकल्पबद्ध है। एसजीटी यूनिवर्सिटी अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ विद्यार्थियों में भावी नेतृत्व की क्षमता विकसित करने के लिए हर संभव सहयोग देने के लिए तत्पर है| यूनिवर्सिटी  का ये भी उद्देश्य है कि यह संगठन विभिन्न स्तरों पर कर्मचारियों में अपेक्षित उत्पादन क्षमता तथा संसाधनों की उपलब्धता मुहैया कराई जाए। 

यूनिवर्सिटी में 17 संकाय है जिनमें अनुभवी डीन, प्रोफेसर हैं जो विद्यार्थियों को बेहतर भविष्य देने के लिए सतत मार्गदर्शन देते रहते है। वर्ष 2013 में एसजीटी यूनिवर्सिटी अस्तित्व में आई थी लेकिन इसके बहुआयामी विकास के बीज वर्ष 2002 एसजीटी डेन्टल कॉलेज की स्थापना के साथ ही बो दिए गए थे। समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों के लिए विभिन्न प्रकार के शैक्षिक अवसर उपलब्ध कराने की दिशा में भी इस यूनिवर्सिटी ने सराहनीय प्रयत्न किए। शैक्षिक दुनिया में प्रवेश करने के पीछे एसजीटी यूनिवर्सिटी का मुख्य उद्देश्य प्रख्यात दार्शनिक तथा सामाजिक सुधारक श्री गुरु गोविन्द सिंह जी की शिक्षा “ज्ञान का प्रसार मानव मात्र की सर्वश्रेष्ठ सेवा है “ का विश्वव्यापी प्रचार प्रसार करना था। 

इस विश्वविद्यालय की स्थापना के पीछे मुख्य उद्देश्य पूरे भारत के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा और शोध के क्षेत्र में अन्त:अनुशासनीय ज्ञान विज्ञान के अवसर उपलब्ध कराते हुए ,उनमें उच्च स्तरीय क्षमता और शक्ति विकसित करने की व्यवस्था करना है। हम शिक्षा की ललक का भाव पैदा करते हुए हम समाज के उत्थान में अपना योगदान देने के लिए निरन्तर प्रयत्नशील है । एसजीटी यूनिवर्सिटी ऐसे प्रोफेशनल तैयार करने के लिए कटिबद्ध है, जो समाज और मानव मात्र के लिए प्रकाश स्तम्भ की तरह कार्य कर सके । 

विद्यार्थियों को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा तथा शैक्षिक उत्कर्षता प्राप्त करने के लिए यूनिवर्सिटी ने प्रभावी प्रयोगशालाएं simulation labs, incubation cell का निर्माण किया है. इसके साथ साथ औद्योगिक घरानों के साथ भी सम्बन्ध स्थापित करते हुए वैश्विक नेता तैयार करने की दिशा में भी यह संकल्पबद्ध है. Apple, Laerdal-Jhpiego, SAP NextGen, UNESCO Bioethics, आईबीएम, औआरएसीएलई, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोनिया -ब्रेक्ली,एनएसई, सीआईएमए और जर्मन एकेडमी फॉर डिजिटल ऐजुकेशन जैसी रार्ष्टीय -अन्तर्राष्टीय संस्थाओं के साथ  एसजीटी यूनिवर्सिटी के  कॉरपोरेट रिसर्च सेन्टर के माध्यम से ,उच्चस्तरीय शैक्षिक सम्पर्क कायम किए है ।

Find Us on Facebook

Trending News