शराबबंदी को लेकर नीरज कुमार का विपक्ष पर कटाक्ष, कहा- गांधी के प्रति अनादर का भाव उनके हवाले, सम्मान का भाव हमारे हवाले

शराबबंदी को लेकर नीरज कुमार का विपक्ष पर कटाक्ष, कहा- गांधी के प्रति अनादर का भाव उनके हवाले, सम्मान का भाव हमारे हवाले

पटना... बिहार में शराबबंदी पूर्ण रूप से लागू है। विगत पांच सालों से शासन और प्रशासन स्तर पर शराबबंदी को लागू करने के लिए सख्ती से निर्देश दिए जाते रहे हैं। इसके बावजूद लगातार शराब तस्करों में वृद्धि देखी जा रही है। अब इस ओर से सरकार ने संज्ञान लेते हुए एक बार फिर नीतीश सरकार की तरफ से आदेश जारी किया गया है कि पुलिस शराबबंदी को लेकर शपथ लेगी। अब ये आदेश सियासी गलियारों में भी चर्चा का विषय बन गया है। 

इस आदेश को लेकर जब हमारे संवाददाता कुमार गौतम ने पूर्व मंत्री और जदयू के वरिष्ठ नेता नीरज कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इसको शपथ मत कहिए, ये दायित्व निर्धारित किया गया है।  तंत्र को ठीक किया जाना ही लोकतंत्र में चुनौती है। अगर सब कुछ ठीक ही रहता तो तो लोक शिकायत कानून क्यों बनता, शिक्षा का अधिकार कानून क्यों बनता। ये तो प्रशासनिक प्रक्रिया है। यह तो मुख्यमंत्री जी के गवर्नेंस का  है अब चौकीदार को भी उन्होंने जिम्मेदारी दी है। जो सबसे निचले लेवल का प्रशासनिक महकमा का कर्मी है उनके ऊपर भी जिम्मेवारी तय किया है। आप गांव में रहते हैं आप भी सूचना दीजिए। 

जदयू नेता ने विपक्षी दलों पर तंज कसते हुए कहा कि जो लोग इसकी आलोचना करते हैं, कृपया करके ज्ञानवर्धक बिहार की जनता के सामने करें। शराब पीने से डायबिटिज ठीक होता है, बीपी ठीक होता है, प्रोटिन है और अपने-अपने घर में प्रयोग करके बताएं कि आने वाली पीढ़ी को हमने राज्य के बाहर सेवन कराया क्योंकि यहां करेंगे तो पकड़े जाएंगे। साथ ही उसका मेडिकल रिपोर्ट भी जारी करें कि कैसे बौद्धिक संपदा कैसे विकसित हुआ। 

वहीं कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि शराबबंदी को लेकर राहुल गांधी जी ने अवकोलन किया होगा। ये गांधीवाद की विचारधारा को आहत कर रहे हैं। हम उनके विचारधारा को मानेंगे, लेकिन आपका जो बौद्धिक पक्ष है उसपर ब्रजपात करते रहेंगे। उससे भी अनैतिक बात करते हैं कि शराब से राजस्व जो आएगा उससे रोजगार देंगे। 

आपको रोजगार देना है तो आप होटवार जेल जाइए, वहां फार्मूला मिलेगा।  फॉर्मूला नंबर एक जमीन दो नौकरी लो, दूसरा फार्मूला गंभीर अपराध के अपराधी रहो नौकरी दें देंगे। ये शराबबंदी सामाजिक जकड़न पर प्रहार है। गांधी मैदान में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के नीचे लिया गया संकल्प है। गांधी के प्रति अनादर का भाव उनके हवाले, सम्मान का भाव हमारे हमारे

पटना से कुमार गौतम की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News