PM मोदी के इस कार्यशैली के मुरीद हैं शरद पवार, कहा - मनमोहन सिंह सहित पूर्व प्रधानमंत्री भी नहीं कर सके थे ऐसा

PM मोदी के इस कार्यशैली के मुरीद हैं शरद पवार, कहा - मनमोहन सिंह सहित पूर्व प्रधानमंत्री भी नहीं कर सके थे ऐसा

NEW DELHI : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम करने के तरीकों को  पसंद करनेवालों में एक बड़ा नाम जुड़ गया है और वह नाम है राकांपा सुप्रीमो शरद पवार का। शरद पवार ने प्रधानमंत्री की तारीफ की है। उन्होंने कहा कि मोदी के पास अपने सहयोगियों को साथ ले जाने का एक अलग तरीका है और वह शैली मनमोहन सिंह जैसे पूर्व प्रधानमंत्रियों में नहीं थी। 

81 वर्षीय शरद पवार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशासन पर अच्छी पकड़ है और यही उनका मजबूत पक्ष है। पवार ने कहा कि पीएम इस बात पर जोर देते हैं कि उनकी सरकार की नीतियों के प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए प्रशासन और उनके सहयोगी एक साथ कैसे आ सकते हैं। एनसीपी चीफ ने कहा कि मोदी बहुत प्रयास करते हैं और काम पूरा करने के लिए पर्याप्त समय देते हैं. उन्होंने कहा कि मोदी का स्वभाव ऐसा है कि एक बार जब वह किसी भी कार्य को हाथ में लेते हैं, तो वह यह सुनिश्चित करेंगे कि जब तक वह (कार्य) अपने निष्कर्ष पर नहीं पहुंच जाता, तब तक वह नहीं रुकेगा

शरद पवार यहीं पर नहीं रूके। उन्होंने कहा कि मोदी के काम करने का तरीका ऐसा  है कि यह  तरीका पूर्व में न मनमोहन सिंह में थी और न दूसरे प्रधानमंत्री ऐसा कर सके। उन्होंने काम करने की एक अलग शैली तैयार की है, जो सबसे अलग है। 

मोदी का कभी नहीं किया विरोध

पवार ने कहा कि जब मोदी गुजरात के सीएम थे, मैं केंद्र में था. जब पीएम सभी मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाते थे, मोदी भाजपा शासित राज्यों के सीएम के एक समूह का नेतृत्व करते थे और केंद्र पर हमला करते थे. उन्होंने कहा कि तो ऐसी स्थिति में मोदी को कैसे जवाब दिया जाए, इस पर रणनीति बनाई जाती थी. 

राज्यसभा सांसद ने कहा कि यूपीए की आंतरिक बैठकों में वह उपस्थित सभी लोगों से कहते थे कि भले ही उनके और मोदी और उनकी पार्टी भाजपा के बीच मतभेद हों, किसी को यह नहीं भूलना चाहिए कि वह मुख्यमंत्री थे. उन्होंने कहा कि मैं बैठकों में कहा करता था कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि वह एक राज्य के सीएम हैं और लोगों ने उन्हें जनादेश दिया है. अगर वह यहां मुद्दों के साथ आ रहे हैं, तो यह सुनिश्चित करना हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य है कि मतभेदों का समाधान हो और हित उनके राज्य के लोग प्रभावित नहीं हैं. उन्होंने कहा कि तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह ने उनकी राय का समर्थन किया

कभी नहीं दिया दखल

महाराष्ट्र में कुछ मंत्रियों के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों द्वारा की गई कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर शरद पवार ने कहा कि मैंने इस मुद्दे पर न कभी पीएम से बात की और न करूंगा। बता दें कि एक दिन पहले ही पवार के करीबी और महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देसमुख को मनी लांड्रिंग के मामले में मुख्य आरोपी बनाया गया है।

विपक्ष की कमान संभालने से किया इनकार

पिछले कुछ समय से शरद पवार को विपक्ष को कमान संभालने की बात कही जा रही है। जिसको लेकर भी एनसीपी प्रमुख ने खुलकर बात की। उन्होंने 2024 के लोकसभा चुनावों के बाद संभावित राजनीतिक परिदृश्य के बारे में पूछा गया कि क्या वे विपक्ष का नेतृत्व करेंगे. पवार ने कहा कि वे नेतृत्व करने के बजाए उस व्यक्ति का समर्थन और मार्गदर्शन करना चाहते हैं जो सरकार का नेतृत्व करेगा।


Find Us on Facebook

Trending News