शिवसेना ने शिंदे गुट को दी चेतावनी- ‘कब तक छुपेगो गुवाहाटी में आना ही पड़ेगा चौपाटी में’ तो केंद्र ने बागी विधायकों की हिफाजत में उतारा सीआरपीएफ

शिवसेना ने शिंदे गुट को दी चेतावनी- ‘कब तक छुपेगो गुवाहाटी में आना ही पड़ेगा चौपाटी में’ तो केंद्र ने बागी विधायकों की हिफाजत में उतारा सीआरपीएफ

DESK. महाराष्ट्र में मचे सियासी घमासान के बीच हर दिन स्थितियां बदल रही हैं. रविवार को भी लगातार सियासी पारा गर्म बना हुआ है. शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने गुवाहाटी में डेरा जमाए एकनाथ शिंदे गुट को चेतावनी भरे लहजे में कहा कि ‘कब तक छुपेगो गुवाहाटी में आना ही पड़ेगा चौपाटी में’. उन्होंने बागियों को मुम्बई आकर अपनी बात रखने को कहा. हालांकि राउत की इस बयानबाजी के कुछ समय बाद ही केंद्र सरकार ने सभी बागी विधायकों को सीआरपीएफ की सुरक्षा प्रदान करने की घोषणा कर दी. 

शिंदे गुट के 50 से ज्यादा विधायकों की हिफाजत के लिए अब सीआरपीएफ जवानों को उनकी घरों के बाहर सुरक्षा में तैनात करने का काम शुरू हो गया है. दरअसल, बागी विधायकों के घरों और दफ्तरों पर शिवसैनिकों के हमलों के बाद यह फैसला लिया गया है. 

इस बीच, महाराष्ट्र विधानमंडलसचिवालय ने शनिवार को शिंदे सहित शिवसेना के 16 बागी विधायकों को अयोग्य करार देने की मांग को लेकर दी गई अर्जी के आधार पर उन्हें ‘समन’ जारी कर 27 जून की शाम तक लिखित जवाब मांगा है. पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने उद्धव ठाकरे को बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अधिकृत किया है.

सूत्रों का कहना है कि रविवार को भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस दिल्ली में शीर्ष भाजपा नेताओं से मिल सकते हाँ. वे राज्य को लेकर आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे. वहीं, यह भी कहा जा रहा है किफडणवीस शुक्रवार रात को वडोदरा में एकनाथ शिंदे से मिले थे. हालांकि इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. 


Find Us on Facebook

Trending News