शिवसेना को ठाकरे परिवार का अधिकार हो जाएगा खत्म, सीएम एकनाथ शिंदे ने चल दिया बड़ा दांव

शिवसेना को ठाकरे परिवार का अधिकार हो जाएगा खत्म, सीएम एकनाथ शिंदे ने चल दिया बड़ा दांव

DESK : महाराष्ट्र की मुख्यमंत्री की कुर्सी से उद्धव ठाकरे को उतारने के बाद सीएम एकनाथ शिंदे ने एक बार फिर से बड़ा झटका दिया है। पार्टी पर अपनी दावेदारी को बचाने की कोशिश में लगे उद्धव ठाकरे की शिवसेना के 12 राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष अब एकनाथ शिंदे गुट के साथ चले गए हैं। अब तक 15 राज्यों में शिवसेना सक्रिय थी, जिसमें 12 राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष के शिंदे गुट से मिलने के बाद अब सिर्फ तीन राज्यो में ही उद्धव ठाकरे के गुट के प्रदेश अध्यक्ष बचे रह गए हैं। शिंदे के इस झटके के बाद अब उद्धव ठाकरे का पार्टी पर पकड़ लगभग खत्म होने की स्थिति में पहुंच गयी है।

शिंदे कैंप जॉइन करने वालों में दिल्ली शिवसेना के प्रमुख संदीप चौधरी, मणिपुर प्रमुख तोम्बी सिंह, मध्य प्रदेश प्रमुख थडेश्वर महावर, छत्तीसगढ़ प्रमुख धनंजय परिहार, गुजरात प्रमुख एस.आर. पाटिल, राजस्थान प्रमुख लखन सिंह पवार, हैदराबाद प्रमुख मुरारी अन्ना, गोवा प्रमुख जितेश कामत, कर्नाटक प्रमुख कुमार ए हकरी, पश्चिम बंगाल के प्रमुख शांति दत्ता, ओडिशा राज्य प्रभारी ज्योतिश्री प्रसन्न कुमार, त्रिपुरा राज्य प्रभारी बारीवदेव नाथ शामिल हैं। ये सभी मुंबई में हुई एक बैठक के दौरान शिंदे खेमे में शामिल हुए। सीएम ने इन सभी राज्य प्रमुखों को अपने राज्यों में पार्टी के विकास के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।

आपको बता दें कि करीब एक सप्ताह बाद उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले गुट के आवेदन पर सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना पार दावेदारी को लेकर सुनवाई होनी है। उद्धव ने अपनी याचिका में चुनाव आयोग को पार्टी के प्रतीक पर शिंदे समूह के दावे पर निर्णय लेने से रोकने की मांग की है। लेकिन जिस तरह से पार्टी के वफादार अब ठाकरे परिवार का साथ छोड़कर जा रहे हैं, वैसे में शिवसेना ठाकरे परिवार के हाथ से निकल कर एक बाहरी के हाथ में जाना तय माना जा रहा है।


Find Us on Facebook

Trending News