पश्चिम बंगाल प्रकरण पर श्याम रजक का बयान, संवैधानिक पद के लोगों द्वारा भारत के संधीय ढांचे को चोट पहुंचाना कतई शोभा नहीं देता

पश्चिम बंगाल प्रकरण पर श्याम रजक का बयान, संवैधानिक पद के लोगों द्वारा भारत के संधीय ढांचे को चोट पहुंचाना कतई शोभा नहीं देता

पटना : जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और विधायक श्याम रजक ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और सीबीआई के बीच चल रहे विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

श्याम रजक ने कहा कि किसी संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति द्वारा भारत के संधीय ढांचे को चोट पहुंचाना कतई शोभा नहीं देता है. शारदा घोटाला केंद्र में यूपीए सरकार के समय 2013 में उजागर हुई थी. सीबीआई पश्चिम बंगाल सरकार से तबसे ही संबंधित कागजातों की मांग कर रही थी. उसे सहयोग देने के बदले राज्य की सरकारी केंद्रीय संस्था के खिलाफ दुरपयोग करना एवं उकसाना लोकतंत्र के लिए घातक है. संवैधानिक सत्ता को नहीं मानने का परिणाम क्या हो सकता है इसका ज्वलंत उदाहरण दक्षिणी अमेरिका के देश ग्वाटेमाला में देखने को मिला है। जहां सिविल वार की स्थिति उत्पन्न हो गयी है. 

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की सफलता कार्यपालिका, न्यायपालिका,विधायिका के आपसी समन्वय पर टिकी होती है और चौथी स्तंभ अर्थात मीडिया की भूमिका भी अहम है. इस तरह के मतभेद की स्थिति में सुप्रीम कोर्ट का दिशा निर्देश प्राप्त करना उचित होगा, ना की बिना किसी तथ्य के देश की एक प्रमुख संस्था पर आरोप-प्रत्यारोप करना।

Find Us on Facebook

Trending News