सीमांचल एक्सप्रेस हादसा : तेज आवाज के साथ लगातार झटकों से टूट गई नींद, एसी कोच को पहुंचा सबसे ज्यादा नुकसान

सीमांचल एक्सप्रेस हादसा : तेज आवाज के साथ लगातार झटकों से टूट गई नींद, एसी कोच को पहुंचा सबसे ज्यादा नुकसान

HAJIPUR : सीमांचल एक्सप्रेस से दिल्ली के लिए सफर कर रहे लोगों ने कभी सपने में भी यह नहीं सोचा होगा कि इस सफर में उनकी नींद बड़े झटकों के साथ टूटेगी। सुबह के 3 बजकर 52 मिनट पर सीमांचल एक्सप्रेस सोनपुर रेल डिवीजन के महनार रोड से आगे बढ़ी थी। लगभग 6 मिनट बाद 3 बजकर 58 मिनट पर तेज आवाज के साथ ट्रेन सहदेई बुजुर्ग पर बेपटरी हो गई। 

हादसे के वक़्त ट्रेन में सफर कर रहे ज्यादातर लोग नींद में थे। ट्रेन में सफर कर रहे बरौनी के विवेक बताते हैं कि उनकी नींद तेज घरघराहट वाली आवाज के साथ खुली। जबतक उनको कुछ समझ मे आता तबतक वह अपनी सीट से लुढ़कर नीचे आ गिरे। सीमांचल एक्सप्रेस के बेपटरी हुए जेनरल डब्बे में सफर कर रहे मनोज ओर उनके भाई को भी चोट लगी है। मनोज बताते हैं कि वह दिल्ली के पास एक केमिकल फैक्ट्री में काम करते हैं। उनकी किस्मत अच्छी रही कि कमर और हाथ मे चोट भर लगी। अब वह वापस घर जाने के इंतज़ार में हैं। 

सीमांचल एक्सप्रेस के जो 9 डब्बे बेपटरी हुए उनमें स्लीपर क्लास के 3 डब्बे और जनरल डब्बे भी हैं। लेकिन सबसे ज्यादा नुकसान एसी कोच को पहुंचा है। 

Find Us on Facebook

Trending News