सिधु बॉर्डर पर बिहार के किसानों-नौजवानो ने 'आंदोलन' के समर्थन में निकाला मार्च, दिया एकता का संदेश

सिधु बॉर्डर पर बिहार के किसानों-नौजवानो ने 'आंदोलन' के समर्थन में  निकाला मार्च, दिया एकता का संदेश

DESK: कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों का आंदोलन आज 33 वें दिन में प्रवेश कर चुका है। इस बीच कई दौर की वार्ता के बाद अब मंगलवार को किसान नेताओं और केंद्र सरकार की होने वाली बैठक अब बुधवार को होगी। इससे पहले किसान संगठनों ने रविवाल को ऐलान किया कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होतीं हरियाणा के सभी टोल फ्री करेंगे। वहीं पंजाब में किसानों ने 1411 मोबाइल टावरों के कनेक्शन भी काट दिए।

इधऱ, बिहार के कांग्रेस नेता भी किसानों के समर्थन में सिंधु बॉर्डर पर कैंप कर रहे हैं. किसानो के समर्थन मे आज सिधु बॉर्डर, दिल्ली मे बिहार के किसानों-नौजवानो ने सैकडों लोगो के साथ मार्च निकालकर दिया एकता का संदेश।आंदोलनकारियों ने कहा कि इस आंदोलन मे देश का एक एक व्यक्ति शामिल है। किसानो के विकास के बेगैर देश का विकास संभव नही है। 

बिहारी किसान नेताओ ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार ने पहले ही बिहार के किसानो को तबाह कर दिया है. इनके काले कानून ने किसानो को मजदूरी करने पर मजबूर कर दिया है। इस नए काले कानून के आने से पूरी तरह से बिहार मे किसानी ठप हो जायेगी। आज़ादी के पहले ईस्ट इंडिया कंपनी ने जिस तरीके से तरक्की का मुद्दा बनाकर देश को गुलाम कर दिया था, ठीक उसी प्रकार नरेंद्र मोदी ने झुठ बोल कर अडानी और अंबानी से देश बेचना चाहते हैं। देश को जब-जब जरूरत पड़ा है बिहार ने कदम से कदम मिलाकर देश हित मे संघर्ष किया है। इस किसान आंदोलन मे भी बिहार पुरी मजबूती के साथ किसानो के साथ है।

बिहार युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कुमार आशीष के नेतृत्व में बिहार कांग्रेस के कई नेता सिंधु बॉर्डर पर कैंप किये हुए हैं और किसान आंदोलन में शामिल हो रहे। आज के प्रदर्शन में छत्रपति यादव विधायक, कुमार आशीष, चुन्नु सिंह, गोपाल कृष्ण, बिपिन राज, अभिषेक, सौरभ सिन्हा इत्यादि प्रमुख थे.

Find Us on Facebook

Trending News