छह महीने का बच्चा हुआ कोरोना पॉजिटिव, जानिए तीसरी लहर में बच्चों को कोरोना के खतरे से कैसे बचाएं

छह महीने का बच्चा हुआ कोरोना पॉजिटिव, जानिए तीसरी लहर में बच्चों को कोरोना के खतरे से कैसे बचाएं

रांची. कोरोना के बढ़ते खतरे से हर उम्र के लोग संक्रमित हो रहे हैं. यहाँ तक कि मासूम बच्चे भी इस महामारी की चपेट में आने लगे हैं. कोरोना की  तीसरी लहर में झारखंड के रांची में एक छह महीने का बच्चा कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. छह महीने के बच्चे के कोरोना पॉजिटिव निकलने से एक ओर स्वास्थ्य विभाग में हड़कम्प मच गया तो दूसरी ओर आम लोगों में अब छोटे बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ गई है. 

राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. रिम्स के पीडियाट्रिक विभाग के A-2 वॉर्ड में 6 महीने के कोविड पॉजिटिव बच्चे को भर्ती किया गया है. रिम्स के पीडियाट्रिक वॉर्ड में भर्ती संक्रमित बच्चों की संख्या पांच हो गयी है. भर्ती संक्रमितों में गुमला की 15 साल की बच्ची, बुंडू तमाड़ की रहने वाली 6 साल की बच्ची, रामगढ़ के बासाल की रहने वाली 12 साल की बच्ची, बाघा केनाली की 11 साल की एक बच्ची के साथ रांची के कांटाटोली का रहने वाला 6 महीने का संक्रमित बच्चा भी शामिल है.

रिम्स के विभिन्न विभागों को मिलाकर कुल 82 संक्रमित मरीज भर्ती हैं. इनमें न्यू ट्रॉमा सेंटर के दूसरे तल्ले पर 23 संक्रमित मरीज भर्ती है. जबकि न्यू पेइंग वॉर्ड में तीन, मेडिसिन डी-2 वॉर्ड में 12, डेंगू वॉर्ड में 11, सर्जरी डी-2 वॉर्ड में 28 और पीडियाट्रिक वॉर्ड में 5 बच्चे भर्ती हैं.

डॉक्टरों की मानें तो कोरोना की तीसरी लहर में जिस तरह से हर आयु वर्ग के लोग संक्रमन का शिकार हो रहे हैं, वह बेहद गंभीर मामला है. खासकर बच्चों को लेकर विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है. बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए उन्हें भीड़ भाड़ से दूर रखने और मास्क का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करने की जरूरत है. विशेषकर सर्दी के मौसम में मौसमी बीमारी की चपेट में न आने देने लिए आवश्यक सुरक्षा उपाय बरते जाने चाहिए. अगर परिवार में कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमित है तो बच्चों को उससे दूर रखना चाहिए. 


Find Us on Facebook

Trending News