तो इस कारण से रामचरित मानस के बयान पर राजद के खिलाफ जदयू नेताओं ने खोला मोर्चा, कैबिनेट की मीटिंग में छुपी है पीछे की कहानी

तो इस कारण से रामचरित मानस के बयान पर राजद के खिलाफ जदयू नेताओं ने खोला मोर्चा, कैबिनेट की मीटिंग में छुपी है पीछे की कहानी

PATNA : जदयू नेता उपेंद्र कुशवाहा ने राजद पर आरोप लगाया कि वह बीजेपी को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रही है। उपेंद्र कुशवाहा की इन बातों में अब सच्चाई नजर आने लगी है। बीते शनिवार को अचानक ही जदयू के कई नेता रामचरित मानस पर राजद और तेजस्वी यादव से कार्रवाई की मांग करने लगे। लेकिन, यह सब ऐसे नहीं हुआ। इसकी कहानी दो दिन पहले हुए बिहार कैबिनेट की मीटिंग में छिपी थी। जहां विवादित बयान देने के बाद पहली बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और शिक्षा मंत्री की मुलाकात हुई।

जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहले शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के बयान से अपने आपको अलग कर लिया था। जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि उन्होंने बयान नहीं देखा है। लेकिन शुक्रवार को जब मंत्रिमंडल की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और चंद्रशेखर की मुलाकात हुई तो रामचरित मानस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने शिक्षा मंत्री को टोक दिया। 

बताया जाता है कि दोनों नेताओं में जब यह बात हो रही थी तो उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी पास में ही खड़े थे। लेकिन, उन्होंने हस्तक्षेप नहीं किया। यहां तक कि अपने मंत्री को भी उन्होंने कुछ नहीं कहा। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि आप यह विवादित बयान क्यों देते हैं। इन सब से अलग रहना चाहिए। आपको तो इतना बढ़िया विभाग मिला हुआ है। आप उस विभाग में काम कीजिए। अपने काम पर फोकस कीजिए।

सीएम की बातों को कर दिया अनसुना

जिस तरह राजद कोटे से पूर्व मंत्री सुधाकर सिंह ने कैबिनेट मीटिंग में मुख्यमंत्री की बातों को मानने से इनकार कर दिया था, यहां भी राजद के मंत्री ने सीएम की बातों को अनसुना कर दिया और दिए गए बयान को लेकर बिना कुछ कहे मीटिंग के बाद सीधे जगदानंद सिंह के पास पहुंच गए। जहां राजद के प्रदेश अध्यक्ष खुलकर शिक्षा मंत्री का समर्थन के लिए सामने आ गए। उन्होंने एक कदम आगे बढ़ते हुए कहा कि रामचरित मानस में कूड़ा करकट भरा हुआ है। उस दौरान शिवानंद तिवारी ने इस बात का विरोध किया था। 

जदयू नेता हुए मुखर

इस प्रकरण के बाद ही जदयू के नेता काफी मुखर हुए हैं। पहले नीतीश के करीबी मंत्री अशोक चौधरी ने शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर को निशाने पर ले लिया। फिर जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने तेजस्वी से एक्शन लेने के लिए कहा। उपेंद्र कुशवाहा ने तो तेजस्वी यादव को यहां तक कह दिया है कि जो बयान दिए जा रहे हैं। उससे बीजेपी को फायदा हो रहा है। बीजेपी से तेजस्वी यादव राहत लेने की कोशिश कर रहे हैं।जदयू के नेता मंदिर में रामचरित मानस का पाठ करने लगे हैं।  एक तरह से कहें पूरी जदयू ने ही आरजेडी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। 

Find Us on Facebook

Trending News