शह-मात का खेल! ...तो मोतिहारी के पॉलिटिकल 'भीष्म पितामह' ने 'पिछड़ा-अतिपिछड़ा' समाज के 13 नेताओं को दिया धोखा? शुरू हुई चर्चा

शह-मात का खेल! ...तो मोतिहारी के पॉलिटिकल 'भीष्म पितामह' ने 'पिछड़ा-अतिपिछड़ा' समाज के 13 नेताओं को दिया धोखा? शुरू हुई चर्चा

PATNA: बिहार में नगर निकाय चुनाव को लेकर जोर-आजमाइश का दौर जारी है। चुनाव भले ही दलीय आधार पर नहीं हो रहा पर चुनावी मैदान में नेता कूद गये हैं. अपने-अपने उम्मीदवार को आगे कर सत्ता पक्ष व विपक्ष के नेता पीछे से खड़े दिख रहे हैं. मोतिहारी नगर निगम का चुनाव, बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा का विषय बन गया है। शह-मात का खेल जारी है। एक-दूसरे को पटखनी देने को लेकर हर चाल चली जा रही है। अब मोतिहारी के रण में तथाकथित भीष्मपितामह के धोखे की चर्चा शुरू हो गई है। यह भी बताया जा रहा है कि उनके द्वारा हमेशा से पिछड़ा वर्ग के नेताओं को धोखा दिया गया है। लिस्ट में जिले के कई नेताओं का जिक्र है, जो बड़े नेता के डंक से घायल हो चुके हैं जिन्हें मदद के बदले धोखा मिला है. इस बार के नगर निगम चुनाव में पिछड़ा-अतिपिछड़ा समाज के लोगों से पुराना हिसाब-किताब बराबर करने की अपील की गई है। 

...तो नेताजी ने पिछड़ा-अतिपिछड़ा समाज के नेताओं को दिया धोखा

मोतिहारी में प्रताडित पिछड़ा वर्ग समूह की तरफ से तेरह बिंदूओं पर लोगों का ध्यान आकृष्ट कराया गया है। कहा है कि जिले के भीष्म पितामह ने पिछड़ा वर्ग के नेताओं के साथ धोखा-विरोध की लम्बी फ़ेहरिस्त है। बजाप्ता सूची जारी कर यह बताया गया है कि आप लोग इसे देख लें......।पहले नंबर पर भाजपा नेता स्व० लक्ष्मण प्रसाद की पत्नी वीणा देवी का वर्ष-2002 में सभापति नगर परिषद् मोतिहारी के चुनाव में विरोध की बात कही गई है। बताया गया है कि जिले के बड़े नेता जिन्हें भीष्ण पितामह कहा जाता है,उन्होंने विरोध किया था. दूसरे नंबर पर वरीय अधिवक्ता सह भाजपा नेता स्व० नारायण अग्रवाल को राजनीतिक पदों में बाधक बन कर विरोध किया. 

लिस्ट में 14 नेताओं को धोखा देने का जिक्र

तीसरा- भाजपा नेता स्व० लक्ष्मण प्रसाद को राजनीतिक पदों पर आसीन होने में बाधक बननना. 4- मंजू देवी अध्यक्ष ज़िला परिषद् पू० च० को दूसरी बार अध्यक्ष चुनाव में व्यापक विरोध करना. 5- लोकसभा चुनाव 2019 से पहले राजद के पूर्व ज़िलाध्यक्ष अरूण यादव को भाजपा में शामिल कर धोखा देना. 6-लोकसभा चुनाव से पहले राजद के पूर्व विधानसभा प्रत्याशी सुरेश सहनी को भाजपा में शामिल कर धोखा देना. 7- लोकसभा चुनाव से पहले राजद पूर्व विधानसभा प्रत्याशी केसरिया रामशरण यादव को भाजपा में शामिल कर धोखा देना.

7. लोकसभा चुनाव से पहले  पूर्व विधानसभा प्रत्याशी पीपरा मनोज पासवान को भाजपा में शामिल कर धोखा देना

8- प्रियंका जायसवाल को अध्यक्ष ज़िला परिषद् पू० च० चुनाव में वर्ष 2021 में विरोध करना

9- बबलू गुप्ता विधान पार्षद भाजपा सह प्रदेश संयोजक भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ को वर्ष 2022 चुनाव में विरोध करना।

10-. भाजपा नेता राजेन्द्र गुप्ता को राजनीतिक हाशिए पर ले जाने में अहम भूमिका अदा करना.

11. तत्कालीन भाजपा नेता सह ज़िला उपाध्यक्ष सुभाष कुशवाहा के बढ़ते कद को देखकर पार्टी छोड़ने पर मजबूर करना.

12. अंजू गुप्ता मेयर नगर परिषद् मोतिहारी सह भाजपा नेत्री को वर्ष 2022 के चुनाव में विरोध करना

13. लोकसभा चुनाव से पहले  पूर्व मंत्री सह विधानसभा प्रत्याशी सुगौली विजय गुप्ता को भाजपा में शामिल कर धोखा देना

14- लोकसभा चुनाव से पहले  पूर्व मंत्री सह विधानसभा प्रत्याशी नरकटिया बीरेन्द्र कुशवाहा को भाजपा में शामिल कर धोखा देना

                        

Find Us on Facebook

Trending News