बड़े बेटे की सरकारी बैठक में दामाद और छोटे बेटे की बैठक में कार्यकर्ता? नीतीश जी क्या अब सरकारी बैठकों में दामाद / कार्यकर्ता को बैठने की अनुमति है?

बड़े बेटे की सरकारी बैठक में दामाद और छोटे बेटे की बैठक में कार्यकर्ता? नीतीश जी क्या अब सरकारी बैठकों में दामाद / कार्यकर्ता को बैठने की अनुमति है?

पटना. बिहार में महागठबंधन सरकार बनते ही नीतीश सरकार एक के बाद एक नए विवादों में घिर रही है. विशेषकर विभागों से संबधित बैठकों में लालू परिवार के रिश्तेदारों और राजद कार्यकर्ताओं के शामिल होने की तस्वीरें सामने आने पर भाजपा नीतीश कुमार पर हमलावर है. पहले तेज प्रताप यादव के साथ उनके जीजा की फोटो आई जिसमें वे सरकारी बैठक में शामिल थे. अब उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से जुडी विभागीय सरकारी बैठक में राजद के कार्यकर्ता की तस्वीर वायरल हुई है. 

भाजपा नेता सुशील मोदी ने शुक्रवार को तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति को राजद कार्यकर्ता बताकर सीएम नीतीश को कठघरे में खड़ा किया. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव अपने विभाग की बैठक में राजद कार्यकर्ता संजय यादव को साथ में बैठाये हैं. यह नियम का उल्लंघन है. विभागों से जुडी बैठकों में मंत्री और अधिकारी के आलावा कोई दूसरा शामिल नहीं हो सकता है. लेकिन सरकारी बैठक में पहले लालू यादव के दामाद और अब राजद कार्यकर्ता संजय यादव का दिखना बेहद गंभीर मामला है. 

उन्होंने कहा कि जब एनडीए की सरकार थी तब कभी भी ऐसा नहीं होता था. लेकिन अब पहले तेज प्रताप यादव की बैठक में दामाद और अब तेजस्वी यादव की बैठक में राजद कार्यकर्ता शामिल हो रहा है. इसके बाद भी बैठक में शामिल किसी आईएसएस की हिम्मत नहीं है कि उन लोगों को बाहर किया जाए. उन्होंने कहा कि यह दिखाता है कि किस तरह से नीतीश सरकार पर लालू परिवार हावी हो चुका है. इतना सब होने के बाद भी नीतीश कुमार सिर्फ ‘टुकुर टुकुर’ देख रहे हैं. 


मोदी ने कहा कि तेजस्वी को बताना चाहिए कि कैसे संजय यादव उस बैठक में शामिल हुआ. अगर यह विभाग की समीक्षा बैठक नहीं थी तो तेजस्वी बोलें कि वे अधिकारियों संग गपशप कर रहे थे. दरअसल इसी तरह की एक और फोटो सामने आई है जिसमें वन मंत्री तेज प्रताप यादव के साथ बैठक में लालू यादव के दामाद शैलेश कुमार बैठे हैं. 


Find Us on Facebook

Trending News