बाढ़ से होनेवाले कटाव का अध्ययन करने पहुंची राज्यस्तरीय इंजीनियरिंग की टीम, प्रभावित परिवारों से जाना हाल

बाढ़ से होनेवाले कटाव का अध्ययन करने पहुंची राज्यस्तरीय इंजीनियरिंग की टीम, प्रभावित परिवारों से जाना हाल

PURNIA : पूर्णिया के ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार बाढ़ के कहर से त्राहिमाम जारी है। ऐसे में सुदूर गांव इलाका जो नेपाल के तराई से सटा हुआ है वहां बाढ़ के कारण कहर बरप पड़ा है। बीते 3 सालों में तकरीबन 2000 से अधिक परिवार इस बाढ़ और कटाव की चपेट में आने से विस्थापित हो चुके हैं। 

पूर्णिया के अमौर प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत आने वाले उन इलाकों के लिए विधायक अख्तरुल इमान द्वारा लगातार सड़क से लेकर सदन तक आवाज उठाते आए हैं। जिसके बाद आज बिहार के राज्यस्तरीय इंजीनियरिंग के अधिकारी अमौर प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न गांवों का दौरा मोटर बोट के माध्यम से किया। इस दरमियान उन तमाम इलाकों में वह पहुंचे जहां पर कटाव के बाद परिवार विस्थापित हुए। जहां उन्होंने बाढ़ से कटाव को लेकर होनेवाली तमाम समस्याओं का बारिकी से अध्ययन किया। टीम ने विस्थापित परिवार के लोगों से बात कर कटाव से उत्पन्न परेशानियों के बारे में भी जानकारी ली।

अमौर विधायक सह AIMIM के प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल इमान ने बताया कि अब तक यहां जिलास्तरीय इंजीनियर निरीक्षण कर रहे थे। लगातार सदन में आवाज उठाने के बाद राज्य स्तरीय वाटर रिसोर्स डेवलपमेंट की टीम खुद से कटाव ग्रस्त क्षेत्र पहुंची है। यहां से तमाम निरीक्षण करने के बाद कटाव निरोधक कार्य शुरू किया जाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News