नीतीश सरकार का सख्त फरमानः रिश्वत लेते पकड़े जाने के केस में हर हाल में मुख्य जांच आयुक्त होंगे संचालन पदाधिकारी

नीतीश सरकार का सख्त फरमानः रिश्वत लेते पकड़े जाने के केस में हर हाल में मुख्य जांच आयुक्त होंगे संचालन पदाधिकारी

PATNA: बिहार सरकार ने अधिकारियों को एक बार फिर से सचेत किया है। सभी विभागों के प्रधान सचिव,डीजीपी, प्रमंडलीय आयुक्त वह सभी जिला अधिकारियों को पत्र लिखा गया है। सामान्य प्रशासन विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार ने सभी विभागीय प्रधानों को पत्र लिख कहा है कि मुख्य जांच आयुक्त को संचालन पदाधिकारी नियुक्त किए जाने से पहले पूर्व से निर्गत नियमों का अनुपालन करें.

सरकार का सख्त फरमान

सामान्य प्रशासन विभाग के प्रधान सचिव ने अपने पत्र में कहा है 21 अक्टूबर 2008 द्वारा सरकारी सेवकों के विरुद्ध गंभीर कदाचार एवं बेईमानी के आरोपों की जांच के लिए विभागीय कार्यवाही संचालन हेतु मुख्य जांच आयुक्त को संचालन का अधिकारी नियुक्त किए जाने का प्रावधान है. इसके साथ ही सामान्य प्रशासन विभाग ने 28 अगस्त 2015 को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े जाने के आरोपों की जांच के लिए मुख्य जांच आयुक्त को संचालन पदाधिकारी नियुक्त करने का प्रावधान किया है. फिर भी ऐसा देखा जा रहा है कि इन आदेशों का अनुपालन कई मामलों में नहीं किया जा रहा है.

मुख्य जांच आयुक्त ही होंगे संचालन पदाधिकारी

प्रधान सचिव कुमार ने सभी विभागीय प्रधान, डीजीपी, कमिश्नर व डीएम को चार बिंदुओं पर का काम करने को कहा है. सामान्य प्रशासन विभाग ने फिर से स्पष्ट किया है कि रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े जाने के मामले में मुख्य जांच आयुक्त को ही संचालन पदाधिकारी नियुक्त किया जाए.

Find Us on Facebook

Trending News