राजनीति का रंग ऐसा चढ़ा कि तेजस्वी ने खेलों से बना ली दूरी, ओलंपिक में अच्छे प्रदर्शन के बाद भी सिर्फ एक बार दी बधाई

राजनीति का रंग ऐसा चढ़ा कि तेजस्वी ने खेलों से बना ली दूरी, ओलंपिक में अच्छे प्रदर्शन के बाद भी सिर्फ एक बार दी बधाई

PATNA : राजद के होनेवाले अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री पद के दावेदार तेजस्वी यादव अब पूरी तरह से राजनीति के खिलाड़ी बन गए हैं। यही कारण है कभी क्रिकेट खिलाड़ी के रूप में भारतीय टीम में आने की दावेदारी करनेवाले तेजस्वी यादव अब खेलों से पूरी तरह दूर हो गए हैं. इस बात का प्रमाण उनके ट्विटर हैंडल से भी मिलता है। जहां पूरे देश में ओलंपिक में बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे खिलाड़ियों का हौंसला अफजाई करते हुए उन्हें बधाई दी जा रही है। वहीं तेजस्वी यादव सिर्फ अपने राजनीति तक सीमित हैं। उनकी तरफ से कोई बधाई नहीं दी जा रही है।

ट्विटर पर खासे सक्रिय रहते हैं तेजस्वी

यह आश्चर्य की बात है कि जहां देश के राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री सहित तमाम उद्योगपति, राजनेता, फिल्मी सितारे,दूसरे खेल के खिलाड़ी ओलंपिक खिलाड़ियों को जीत की बधाई दे रहे हैं। यहां तक कि नीतीश कुमार और तेजस्वी के बड़े भाई तेज प्रताप बधाई दे रहे हैं, वहीं तेजस्वी ने इससे दूरी बना ली है। पिछले दस दिनों में तेजस्वी ने सिर्फ एक बार ओलंपिक खिलाड़ियों की जीत पर अपनी खुशी जाहिर की, जब मीराबाई चानू ने भारतोलन में रजत पदक जीता था। उसके बाद तेजस्वी चुप हैं। यहां तक कि चार दशक बाद हॉकी में पदक जीतने के बाद पूरे देश में जश्न मनाया जा रहा है। देश के पक्ष-विपक्ष के राजनेता भारतीय हॉकी टीम की जीत में खुद को शरीक कर रहें हैं, तेजस्वी यादव चुप हैं। 

खिलाड़ी के रूप में नाकामी है कारण

तेजस्वी यादव क्रिकेट के बेहतर खिलाड़ी रहे हैं। दिल्ली के लिए उन्होंने रणजी क्रिकेट खेला है। आईपीएल में वह दिल्ली टीम का हिस्सा रहे हैं। भारतीय टीम  में आने की दावेदारी कर चुके हैं। लेकिन पिता के कहने पर राजनीति में इंट्री के बाद उन्होंने खेलों से इतनी दूरी बना ली कि खिलाड़ियों को बधाई तक देना जरुरी नहीं समझते हैं। यह बात समझ से परे है। 



Find Us on Facebook

Trending News