सूर्यगढ़ा विस में भाजपा नेता रामनिवास कुमार ने पेश की दावेदारी, क्षेत्र में बाहरी उम्मीदवार मंजूर नहीं के लग रहे नारे...

सूर्यगढ़ा विस में भाजपा नेता रामनिवास कुमार ने पेश की दावेदारी, क्षेत्र में बाहरी उम्मीदवार मंजूर नहीं के लग रहे नारे...

पटनाः बिहार में विधान सभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। लिहाजा सभी पार्टी के नेता पसंदीदा सीट पर अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं.भाजपा नेता रामनिवास कुमार ने लखीसराय  के सूर्यगढ़ा विधान सभा क्षेत्र से अपनी दावेदारी पेश की है। वे लगातार क्षेत्र में सक्रिय हैं और जनसंपर्क कर रहे हैं। 2015 के चुनाव में इस सीट से बीजेपी के उम्मीदवार को करारी हार का सामना करना पड़ा था। करीब 30 हजार मतों से बीजेपी के कैंडिडेट को करारी शिकस्त देकर राजद कैंडिडेट प्रह्लाद यादव की जीत हुई थी।

30 हजार वोट से हारे थे बीजेपी उम्मीदवार

2015 के  बिहार विस चुनाव में सूर्यगढ़ा विस क्षेत्र से तीस हजार वोट से करारी हार का सामना करने वाले बीजेपी उम्मीदवार प्रेमरंजन पटेल को इस बार पार्टी के भीतर ही कड़ा चैलेंज मिल रहा है। जानकार बताते हैं कि 2015 के बीजेपी उम्मीदवार क्षेत्र से बाहर के हैं, वे नालंदा से ताल्लुक रखते हैं। 2015 के चुनाव में उनके समाज के लोगों ने भी उनको वोट न कर जेडीयू-राजद गठबंधन की वजह से राजद कैंडिडेट प्रह्लाद यादव को वोट किया था। यानि कि वो अपने समाज का वोट लेने में विफल साबित हुए थे। जिस वजह से इतने मार्जिन  से हार का सामना करना पड़ा था। अब भाजपा नेता रामनिवास कुमार की तरफ से सूर्यगढ़ा सीट पर दावेदारी जताई गई है। उन्होंने इस सीट पर अपनी तैयारी भी शुरू कर दी है.उनका दावा है कि सूर्यगढ़ा सीट पर पिछली बार बीजेपी प्रत्याशी को सिर्फ 52460 वोट मिले जबकि राजद कैंडिडेट प्रह्लाद यादव को 82490 वोट मिले।इस तरह से भाजपा उम्मीदवार को करीब 30 हजार से हार का सामना करना पड़ा था। इतने वोटों से हारने की वजह से पूर्व उम्मीदवार की दावेदारी कमजोर पड़ती दिख रही है।

बाहरी उम्मीदवार मंजूर नहीं

जानकारों का कहना है कि सूर्यगढ़ा विस क्षेत्र में लखीसराय से ज़्यादा वोटर भूमिहारों की है.करीब 80 हजार के आसपास वोटर इस समाज के हैं। इस बार भी 2015 में हार का सामना करने वाले बीजेपी प्रत्याशी का हाल खराब है।क्षेत्र में उनके प्रति काफी नाराजगी है और बाहरी-भीतरी का नारा बुलंद है। हाल के कुछ दिनों में भूमिहार समाज से बहुत नेता ने इस सीट पर दावा ठोका है।लखीसराय के रामनिवास कुमार ने सूर्यगढ़ा के 50 से ज़्यादा गाँव में जनसम्पर्क किया है और अपनी मंशा ज़ाहिर कर दी है।भाजपा के कोर वोटर का माँग है की ये अपना समाज का वोट नहीं का सके तो फिर टिकट उन्हें क्यों...? वैसे भी प्रेम रंजन पटेल नालंदा से आते हैं

भाजपा नेता रामनिवास कुमार कर रहे जनसंपर्क

आशुतोष की आरजेजेपी पार्टी की पैनी नज़र है।कुछ दिन पहले आशुतोष ने सूर्यगढ़ा में सघन जनसम्पर्क भी किया था। बीजेपी के कोर वर्ग के वोटरों का कहना है कि नालंदा ज़िला में भी सिर्फ़ एक समाज को प्रतिनिधित्व दिया जाता है. पड़ोसी जमुई में भी राजपूत समाज को  मिलता है, फिर भूमिहार की अनदेखी क्यों ? अब देखना होगा कि,भाजपा किस उम्मीदवार पर दांव लगाती है.क्योंंकि इस क्षेत्र से कई नेता टिकट के उम्मीदवार हैं। लखीसराय के स्थानीय और सामाजिक कार्य करने वाले रामनिवास कुमार का नाम टिकट के प्रमुख दावेदारों में से एक है।बताया जाता है कि,रामनिवास कुमार बीजेपी संगठन से काफी नजदीक से जुड़े हैं और एनआरसी, सीएएस इत्यादि मुद्दों पर काम किया है। 

Find Us on Facebook

Trending News