सुशासन का स्याह सच, बिहार में एक साल के अंदर 1400 रेप की वारदात

सुशासन का स्याह सच, बिहार में एक साल के अंदर 1400 रेप की वारदात

PATNA: सीएम नीतीश कुमार भले ही सुशासन के जितने भी दावे कर लें ,लेकिन हकीकत कुछ और ही है. नीतीश कुमार के सुशासन वाली सरकार में महिलाओं के साथ रेप की घटनाओं ने अबतक का सारा रिकार्ड तोड़ दिया है. पिछले साल यानी 2018 मे सूबे में 1400 महिलाओं के साथ रेप की घटनायें सामने आयी हैं. जो अबतक का सबसे अधिक है. बिहार पुलिस मुख्यालय ने 2001 से लेकर 2018 तक के जो आंकड़े ऑनलाईन किए हैं उसमें इस बात की पुष्टि हुई है.

लालू-राबड़ी शासनकाल की तुलना में नीतीश राज मे अधिक हुई घटनायें

लालू-राबड़ी राज और नीतीश कुमार के शासनकाल का तुलना करें स्थिति बिल्कुल उलट है. नीतीश राज में महिलाओं के साथ रेप के मामलों में बेतहाशा वृद्धि हुई है. 2001 में जब बिहार मे राबड़ी देवी का शासन था तब उस साल 746 रेप की घटनायें सामने आयीं थी. 2005 मे जब नीतीश कुमार ने बिहार का बागडोर संभाला उसके बाद बड़ी तेजी से रेप की घटनाओं मे वृद्धि हुई है. 2006 मे जहां 1083 रेप की घटनायें घटित हुई थी ,जो 2018 मे बढकर 1400 पर पहुंच गयी है. 

एक नजर 2001 से लेकर 2018 की घटनाओं पर

2001--746 घटनायें, 2002--875, 2003--804, 2004--1063, 2005--973, 2006--1083, 2007--1122, 2008--1041, 2009--929, 2010--795, 2011—934, 2012—927, 2013—1128, 2014—1127, 2015—1041, 2016—1008, 2017—1198, 2018--1400


Find Us on Facebook

Trending News