सुशील मोदी ने नीतीश कुमार से कर दी मांग - विशेष राज्य बना ही रहे हैं, लगे हाथ पूरे देश में इस व्यवस्था को भी लागू करने की घोषणा कर दीजिए

सुशील मोदी ने नीतीश कुमार से कर दी मांग - विशेष राज्य बना ही रहे हैं, लगे हाथ पूरे देश में इस व्यवस्था को भी लागू करने की घोषणा कर दीजिए

PATNA : बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर हर दिन नई नई बातें सुनने को मिल रही है। इस कड़ी में बीते गुरुवार को जिस तरह से नीतीश कुमार ने कहा था कि 2024 में हमारी सरकार बनने के बाद बिहार जैसे गरीब और छोटे राज्यों को विशेष राज्य का दर्जा देने के काम प्राथमिकता दी जाएगी। अब नीतीश कुमार की इस घोषणा पर उनके पुराने मित्र रहे सुशील मोदी ने चुटकी ली है। राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कहा है कि यह अच्छी बात है कि नीतीश जी विशेष राज्य की घोषणा कर रहे हैं। मैं तो उनसे मांग करूंगा कि जब इतनी घोषणाएं कर ही रहे हैं तो बिहार में जिस शराबबंदी की तारीफ करते हैं. उसे पूरे देश में भी लागू करेंगे। यह भी घोषणा कर ही देनी चाहिए। 

सुशील मोदी ने कहा कि  नीतीश कुमार को अपने सभी सहयोगियों के सामने यह शर्त रखनी चाहिए कि उनकी सरकार बनने के बाद सबसे पहले पूरे देश में शराब की बिक्री बंद कर शराबबंदी कानून लागू किया जाएगा। 

विशेष राज्य की बात पर  बखिया उघेड़ दिया

सुमो ने इस दौरान नीतीश कुमार के विशेष राज्य की बात जमकर बखिया उधेड़ी। पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि दस साल यूपीए की सरकार थी, तब क्यों नहीं दिलवाया विशेष राज्य, खुद केंद्र में मंत्री रहे, तब भी विशेष राज्य नहीं दिलवा सके। यहां तक कि विशेष राज्य की जरुरत को लेकर उन्होंने रघुराम राजन कमेटी भी बनाई, जिनकी रिपोर्ट में बता दिया गया कि विशेष राज्य की कोई आवश्यकता नहीं है, आज के समय में किसी राज्य को यह व्यवस्था नहीं दी जा रही है। तो जिस कमेटी को खुद नीतीश कुमार ने बनाया उन्होंने ही इस पर आपत्ती जता दी, इसके बाद भी वह एक ही राग अलाप रहे हैं, तो यह सिर्फ बिहार के लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए है। 

देश में समाप्त हो रहे हैं कहीं बिहार में भी

सुशील मोदी ने कहा कि आज जदयू की जो हालत है। उसके बाद 2024 में जदयू का बिखरना तय है। आज 16 सांसद हैं, कल 2 सांसद भी रहेंगे या नहीं, यह सोचना होगा। इसके बाद वह बिहार के मुख्यमंत्री भी रहेंगे या नहीं, इस पर सोचने की जरुरत है। क्योंकि उनकी पार्टी पूरी तरह से बिखर जाएगी, आज देश में वह समाप्त हो रहे हैं, कहीं ऐसा न हो  कि बिहार में वह पूरी तरह से समाप्त हो जाएं। इसलिए नीतीश जी और ललन बाबू पहले अपनी पार्टी को बचाना चाहिए, कहीं ऐसा न हो कि 43 विधायकों वाली पार्टी को लालू प्रसाद ही खत्म न कर दें

हताश हैं नीतीश  कुमार

सुशील  मोदी ने नीतीश कुमार की भाषा पर आश्चर्य जाहिर किया। उन्होंने कि नीतीश कुमार जिस तरह की भाषा बोल  रहे हैं वह उनके हताशा को दिखाता है। कभी वह प्रशांत किशोर और  आरसीपी को तुम तड़ाक कहकर बुलाते हैं,  कभी अंड-बंड बोलते हैं, कल वह गदहा शब्द ता का इस्तेमाल करने लगे। इस तरह की भाषा वह बोल रहे हैं व उनके हताशा को दिखा रहा है। 

विपक्षी पार्टियों की एकता पर सवाल

सुमो ने कहा कि दो दिन पहले केसीआर ने यह घोषणा की है कि अगर वह प्रधानमंत्री बनते है पूरे देश में बिजली-पानी मुफ्त में दिया जाएगा। उसी तरह सीपीएम और आप भी यह घोषणा कर चुके हैं कि वह किसी भी कीमत पर कांग्रेस के साथ नहीं जाएंगे। सीपीएम ने तो यहां तक कहा था कि वह कांग्रेस की जगह राक्षसों के साथ सरकार बनाना पसंद करेंगे। ऐसे विपक्षी एकता में कितना दम है यह समझा जा सकता है। 


Find Us on Facebook

Trending News