सुशील मोदी का सीएम पर निशाना, बोले- 'निकाय चुनाव फिर स्थगित नहीं होगा इसकी गारंटी दें नीतीश, पोल खुलने के डर से सार्वजनिक नहीं की 'आयोग' की रिपोर्ट

सुशील मोदी का सीएम पर निशाना, बोले- 'निकाय चुनाव फिर स्थगित नहीं होगा इसकी गारंटी दें नीतीश, पोल खुलने के डर से सार्वजनिक नहीं की 'आयोग' की रिपोर्ट

पटना. बिहार में निकाय चुनाव को लेकर भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील मोदी लगातार बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर हमलावर है। इस बीच उन्होंने सीएम नीतीश पर हमला बोलते हुए कहा कि पोल खुलने के डर से अतिपिछड़ा आयोग की रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया गया। साथ ही उन्होंने सीएम नीतीश को चुनौती देते हुए कहा कि सीएम नीतीश गारंटी दे कि निकाय चुनाव फिर स्थगित नहीं होगा। उन्होंने कहा कि अतिपिछड़ों पर नीतीश कुमार को भरोसा नहीं रहा, इसलिए राजनीतिक पिछड़ेपन की पहचान से संबंधित आधी-अधूरी रिपोर्ट आनन-फानन में तैयार करा ली।

सुशील मोदी ने कहा निकाय चुनाव के मुद्दे पर गत 1 दिसम्बर को सुनवाई की तारीख थी। फजीहत के डर से आयोग ने खानापूर्ति कर सरकार को रिपोर्ट सौंप दी। सर्वे भी जल्दबाजी में कराया गया। सुशील मोदी ने कहा कि पूरा मामला हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान में है। ऐसे में क्या सरकार गारंटी दे सकती है कि निकाय चुनाव फिर स्थगित नहीं होंगे? निकाय चुनाव को लेकर बिहार में संदेह की स्थिति बनी हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार की नीयत में खोट थी, इसलिए निकाय चुनाव में अतिपिछड़ों को आरक्षण देने के लिए विशेष आयोग बनाने के बजाय अतिपिछड़ा वर्ग आयोग को ही अधिसूचित कर नया टास्क सौंप दिया गया। 

सुशील मोदी ने कहा कि बिहार अतिपिछड़ा वर्ग आयोग सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के अनुरूप नहीं है। यह विशेषज्ञ लोगों का निष्पक्ष और स्वतंत्र आयोग नहीं, बल्कि राजद और जदयू के नेताओं की एक कमेटी है, जिसने मुख्यमंत्री की इच्छा के अनुसार रिपोर्ट तैयार कर दी। आयोग के सभी सदस्यों के हस्ताक्षर तक नहीं हैं। कई सदस्यों को रिपोर्ट सौंपे जाने की जानकारी भी नहीं है। उन्होंने कहा कि राज्य निर्वाचन आयोग भी स्वतंत्र नहीं रह गया है। यह बिहार सरकार के एक विभाग की तरह काम कर रहा है।

Find Us on Facebook

Trending News