भाजपा छोड़ सपा का दामन थामा स्वामी प्रसाद मौर्य, अखिलेश ने दी जानकारी

भाजपा छोड़ सपा का दामन थामा स्वामी प्रसाद मौर्य, अखिलेश ने दी जानकारी

Desk. यूपी की योगी सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही वह भाजपा भी छोड़ दिया है। अब वह समावादी पार्टी का दमन थाम लिया है। इसकी जानकारी साप के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश सिंह यादव ने ट्वीट कर दी है।

अखिलेश का ट्वीट

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि, 'सामाजिक न्याय और समता-समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता स्वामी प्रसाद मौर्या जी एवं उनके साथ आने वाले अन्य सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन! सामाजिक न्याय का इंक़लाब होगा ~ बाइस में बदलाव होगा'.

चार बार विधायक चुने गये

स्वामी प्रसाद मौर्य का जन्म 2 जनवरी 1954 को प्रतापगढ़ में हुआ था। उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्स‌िटी से लॉ में स्नातक और एमए की डिग्री की हासिल की है। स्वामी प्रसाद मौर्य चार बार विधायक चुने गए और पांच बार कैबिनेट मंत्री बने साथ ही यूपी विधानसभा से तीन बार नेता प्रतिपक्ष चुने गए।

मौर्य ने 1980 में राजनीति में सक्रिय रूप से कदम रखा। वह इलाहाबाद युवा लोकदल की प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य बने और जून 1981 से सन 1989 तक महामंत्री पद पर रहे। इसके बाद 1989 से सन 1991 तक यूपी लोकदल के मुख्य सचिव रहे। मौर्य 1991 से 1995 तक उत्तर प्रदेश जनता दल के महासचिव पद पर रहे।

2 जनवरी 1996 को स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा की सदस्यता ली और प्रदेश महासचिव बने। 1996 में स्वामी प्रसाद मौर्य बसपा के टिकट पर डलमऊ, रायबरेली से विधानसभा सदस्य बने और चार बार विधायक बने। मौर्य ने 2009 में पडरौना विधानसभा उपचुनाव जीता और केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह की मां को हराया।

मौर्य सन 2007 से 2009 तक मंत्री रहे। जनवरी 2008 में उन्हें बसपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। 2012 में मिली हार के बाद मायावती ने उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर नेता प्रतिपक्ष बनाया और उनकी जगह रामअचल राजभर को प्रदेश अध्यक्ष बना दिया।

Find Us on Facebook

Trending News