तेजस्वी ने सीएम नीतीश पर फिर किया बड़ा हमला, पूछा-क्या बिहार में चंद घंटो की बारिश को भी आपदा मान लेना चाहिए?

तेजस्वी ने सीएम नीतीश पर फिर किया बड़ा हमला, पूछा-क्या बिहार में चंद घंटो की बारिश को भी आपदा मान लेना चाहिए?

PATNA : बिहार में पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश से स्थिति काफी खराब हो गई है। एक ओर जहां प्रदेश के कई जिलों पर भयंकर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। वहीं राजधानी के हालात लगभग बाढ़ जैसी हो गई है। 

इस बारिश से बिगड़े हालात पर सियासत पर शुरु हो गया है। पक्ष और विपक्ष दोनों के बीच जुबानी जंग जारी है। शनिवार के बाद आज एकबार फिर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोला है। 

तेजस्वी ने ट्वीट किया है चंद घंटो की बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त और प्रशासनिक व्यवस्था ध्वस्त है। घर, स्कूल, विश्वविद्यालय, अस्पताल, कार्यालय, दुकान, शोरूम, बाजार, गली-मोहल्लों में हर तरफ नालों का 4-5 फ़ुट तक गंदा पानी जमा है।अस्पतालों में मछलियों के साथ सुशासनी निश्चय, वादे और दावे तैर रहे है। मुख्यमंत्री नीतीश जी बतायें, क्या बिहार में चंद घंटो की बारिश को भी आपदा मान लेना चाहिए? 

उन्होंने आगे लिखा है चूहों पर बाढ़ का दोषारोपण एवं खोखले सुशासनी दावों वाली सरकार ने राज्यवासियों को नरकीय स्थिति में पहुंचा दिया है। पूरा देश नग्न आंखों से नीतीश जी का स्वयं घोषित सुशासनी विकास देख रहा है। हर प्रशासनिक विफलता का दोष चूहों, प्रकृति और विपक्ष पर मढ़ने वाली भ्रष्ट नीतीश सरकार की अवसंरचनात्मक नीतियाँ सिर्फ बनावटी और ज़ुबानी ख़र्च है। नीतीश सरकार पूर्णतः गैरजिम्मेदार तरीके से समस्याओं से निपट रही है। चंद घंटों की बरसात से ही इस बड़बोली सरकार की पोल-पट्टी खुल जाती है।

बता दें  तेजस्वी ने शनिवार को भी सीएम नीतीश कुमार पर जोरदार हमला बोला था। उन्होने  ट्वीवट  किया था नीतीश जी के अथक सुशासनी प्रयास से कथित स्मार्ट सिटी पटना के 80 फ़ीसदी घरों में बारिश और नालों का गंदा पानी घुस चुका है। सभी व्यवस्थाएँ ध्वस्त है। 15 वर्ष से ड्रेनेज प्रोजेक्ट के नाम पर सुशासनी बाबुओं ने अरबों करोड़ ड़कार लिए। क्या यही “ठीके तो” ब्रांड है?

कुंदन की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News