तेजस्वी-मीसा ठगी के मामले में फंसे! चुनाव में टिकट देने के नाम पर लिए पांच करोड़, लेकिन दे दिया धोखा, अब एफआईआर के आदेश

तेजस्वी-मीसा ठगी के मामले में फंसे! चुनाव में टिकट देने के नाम पर लिए पांच करोड़, लेकिन दे दिया धोखा, अब एफआईआर के आदेश

PATNA : झारखंड में राजद को मजबूती देने की कोशिश में जुटे तेजस्वी यादव नई मुसिबत में घिर गए हैं। उन पर करोड़ों रुपए की ठगी का आरोप लगा है। जिसमें उनके खिलाफ सीजेएम के आदेश पर एफआईआर दर्ज किया गया है। वहीं इस एफआईआर में तेजस्वी के साथ मीसा भारती, दिवगंत सदानंद सिंह के पुत्र शुभानंद मुकेश, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और प्रवक्ता राजेश राठौर के नाम शामिल हैं। इन सभी पर चुनाव में टिकट देने के नाम पर 5 करोड़ की धोखाधड़ी के आरोप हैं।

मामले में मिली जानकारी के अनुसार संजीव सिंह नामक व्यक्ति ने खुद को वकील व बिहार कांग्रेस का प्रभारी पर्यवेक्षक बताते हुए 18 अगस्त 2021 को परिवाद दिया था। आरोप था कि आरोपियों ने भागलपुर से लोकसभा का टिकट देने के एवज में 15 जनवरी 2019 को 5 करोड़ लिए थे। पर टिकट दूसरों को दे दिया। बदले में विस चुनाव में 2 टिकट का भरोसा दिया। लेकिन वह भी नहीं दिया गया।

मामले में पटना के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी विजय किशोर सिंह की कोर्ट ने बीते 31 अगस्त को ही सुनवाई पूरी कर ली थी। जिसके बाद आदेश सुरक्षित रखा था। शनिवार को कोर्ट ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, मीसा भारती, सदानंद सिंह के पुत्र शुभानंद मुकेश, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और प्रवक्ता राजेश राठौर पर प्राथमिकी का आदेश दिया है। कोर्ट ने एसएसपी के माध्यम से कोतवाली थाना को एफआईआर दर्ज करने को कहा है। 

Find Us on Facebook

Trending News