तेजस्वी ने विधानसभा में मैट्रिक परीक्षा में पेपर लीक का उठाया मामला,पूछा-सीबीएसई का पेपर तो नहीं आउट होता?

तेजस्वी ने विधानसभा में मैट्रिक परीक्षा में पेपर लीक का उठाया मामला,पूछा-सीबीएसई का पेपर तो नहीं आउट होता?

पटना: केंद्र सरकार द्वारा पिछले दिनों संसद से पास कराए गए कृषि बिल के खिलाफ देशभर में किसान संगठन और विपक्षी दल विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। बिहार में राजद ने किसानों के विरोध प्रदर्शन को समर्थन दिया है।बिहार विधानमंडल के बजट सत्र का आज दूसरा दिन है। विधानसभा की कार्यवाही के दूसरे दिन राजद नेता तेजस्वी यादव खुद ट्रैक्टर चला कर विधानसभा पहुंचे। तेजस्वी यादव के साथ राजद के कई विधायक भी थे। वहीं कांग्रेस विधायकों ने भी एमएसपी को लेकर जमकर नारेबाजी की। बिहार विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही भाकपा माले विधायकों ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। माले विधायक पेट्रोलियम पदार्थों की मूल्य वृद्धि पर चर्चा की मांग करते रहे।वहीं तेजस्वी यादव ने मैट्रिक परीक्षा में पेपर लीक का मामला उठाया और सरकार से जवाब मांगा। 

बिहार बोर्ड की हर परीक्षा का पेपर लीक होता है-तेजस्वी

वहीं,तेजस्वी यादव ने सदन में एक बार फिर से मैट्रिक परीक्षा पेपर लीक का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि यह गंभीर इश्यू है इस पर सरकार जवाब दे। उन्होंने सदन में कहा कि बिहार बोर्ड दावा करती है कि वो सीबीएसई पैटर्न पर परीक्षा लेती है। लेकिन सीबीएसई का पेपर लीक नहीं होता लेकिन बिहार बोर्ड की हर परीक्षा का पेपर आउट होता है। यह एक गंभीर मुद्दा है। इस पर सरकार जवाब दे। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि अभी ऐसे सवालो को उठाने का समय नहीं है।

राजद-कांग्रेस विधायकों का जमकर प्रदर्शन

कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान एमएसपी के समर्थन में लकड़ी में गेहूं,चावल,दाल  व अन्य सामान बांध कर लाये थे। वे केंद्र सरकार की तरफ से लाये गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे थे। वहीं राजद विधायक भी विधानसभा पोर्टिको में किसान कानून,शराबबंदी को लेकर जमकर नारेबाजी की। 

सरकार के खिलाफ कर रहे नारेबाजी

विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले विपक्षी विधायकों ने प्रदर्शन किया। भाकपा माले के विधायकों ने विधानसभा परिसर में सरकार के खिलाफ खूब नारेबाजी की। माले विधायक हाथ में पोस्टर लेकर विधानसभा पहुंचे .माले विधायक शराबबंदी में पूरी तरह से फेल बता सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे। विधायकों का कहना है कि प्रशासन शराब माफियाओं से मिली हुई है। इतना ही नहीं डीजल-पेट्रोल के बढ़े दाम के खिलाफ भी माले विधायक नारेबाजी करते रहे।


Find Us on Facebook

Trending News