जवाब दे सरकार... बिहार में दो-दो उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री पर शिक्षक नियुक्ति पर बोल क्यों नहीं रहे ?

जवाब दे सरकार... बिहार में दो-दो उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री पर शिक्षक नियुक्ति पर बोल क्यों नहीं रहे ?

Patna: शिक्षक अभ्यर्थियों के मुद्दे को लेकर तेजस्वी यादव आज मैदान में उतर गए।वे सबसे पहले ईको पार्क जाकर आवाज बुलंद किया।इसके बाद गर्दनीबाग धरना स्थल पर जाकर नीतीश सरकार की जमकर खिंचाई की।

तेजस्वी ने कहा कि पढ़ाई, दवाई, कमाई, सिंचाई, सुनवाई और कारवाई हमारा मुख्य मुद्दा है।हम सदा बेरोजगारों, छात्रों, शिक्षकों, नौजवानों और किसानों के समर्थन में हूँ और रहूँगा। विपक्ष में रहते हुए भी बेरोजगार साथियों को नौकरी दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हूँ। 

कल रात्रि इतनी ठंड में आंदोलनरत शिक्षक अभ्यर्थियों पर मुख्यमंत्री जी ने लाठीचार्ज करा उनकी रसोई और पंडाल को उखाड़ दिया था। कुछ को गिरफ़्तार किया था जिन्हें हमने रात में छुड़वाया। आज प्रशासन ने गर्दनीबाग धरना स्थल पर उन्हें धरने की अनुमति नहीं दी जिसके चलते सभी अभ्यर्थी टिकट लेकर इको पार्क पहुंच गए। शाम को वहाँ पहुँचा और मुख्य सचिव, डीजीपी और डीएम से बात कर अनुमति मिलने के बाद रात्रि में पैदल मार्च कर उन्हें दोबारा धरना स्थल पर पहुँचा कर आया। 

 उन्होंने कहा कि स्वीकृत धरना स्थल गर्दनीबाग में शांतिपूर्वक धरना-प्रदर्शन करना आंदोलनकारियों का लोकतांत्रिक अधिकार है। सरकार कैसे उन्हें अनुमति नहीं दे सकती? प्रशासन कैसे निर्दोष युवाओं, महिलाओं और दिव्यांगों पर लाठीचार्ज कर सकता है? 

हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद क्यों 94000 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र नहीं दिया जा रहा?क्यों शिक्षा मंत्री अपने घर में दुबके बैठे है? दो-दो उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री 94000 अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर क्यों नहीं बोल रहे है? 

नीतीश सरकार की यह हिटलरशाही हम चलने नहीं देंगे। मैं बिहार के युवाओं को नौकरी देने के लिए कटिबद्ध हूँ।

Find Us on Facebook

Trending News