तेजस्वी यादव खेल रहे रोजगार कार्ड, पर लाइब्रेरियन का नहीं उठाया मुद्दा, मजबूरन छात्रों ने पटना हाईकोर्ट का खटखटाया दरवाजा

तेजस्वी यादव खेल रहे रोजगार कार्ड, पर लाइब्रेरियन का नहीं उठाया मुद्दा, मजबूरन छात्रों ने पटना हाईकोर्ट का खटखटाया दरवाजा

पटना : बिहार विधानसभा चुनाव से पहले एक तरफ तेजस्वी यादव रोजगार कार्ड खेल रहे हैं. तो दूसरी ओर बिहार के बेरोजगार लाइब्रेरियन ने पटना हाईकोर्ट का दरबाजा खटखटाया है. जबकि छात्रों का कहना है कि हमारा प्रतिनिधिमंडल तेजस्वी यादव से पहले भी मिल चुका है. इस दौरान तेजस्वी यादव ने कहा था इस मुद्दे को वो उठाएंगे. पर उन्होंने ऐसा नहीं किया. थक हार कर हमें पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर करनी पड़ी है. 

दरअसल बिहार में अरसे से लाइब्रेरियन की बहानी नहीं हुई है. जिसको लेकर ऑल बिहार ट्रेंड लाइब्रेरियन एसोसियशन की तरफ से पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है.


वहीं पटना हाईकोर्ट के अधिवक्ता डॉ अंजनी प्रसाद सिंह ने कहा है कि बिहार में विभिन्न माध्यमिक, उच्च माध्यमिक विद्यालय में करीब 10 हजार से ज्यादा लाइब्रेरियन के पद रिक्त है. शिक्षा विभाग ने साल 2008 के बाद कोई भी नया आवेदन नहीं मांगा है. सरकार सिर्फ आश्वासन देती रही कि सभी विद्यालयों में पद सृजित किया जाएगा. लेकिन अभी तक कुछ भी किया गया है. सूबे में करीब 9630 माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालय है, पर मात्र 2400 में ही लाइब्रेरियन बहाल है. बाकी बचे स्कूलों में भी पद सृजित कर नियुक्ति किए जाने की जरूरत है. इसको लेकर पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है. 

बता दें कि ऑल बिहार ट्रेंड लाइब्रेरियन एसोसियशन के सदस्यों ने बीते दिनों तेजस्वी यादव से मुलाकात भी थी. तेजस्वी यादव ने आश्वासन दिया था कि वो इस मुद्दे को उठाएंगे. पर ऑल बिहार ट्रेंड लाइब्रेरियन के एसोसियशन सदस्यों ने साफ तौर पर कहना है कि बिहार में लाइब्रेरियन की बहानी को लेकर सत्तापक्ष से लेकर विपक्षी नेताओं के पास भी गए. हर जगह सिर्फ और सिर्फ आश्वासन दिया गया कि पर किसी ने हमारे मुद्दे को लेकर आवाज बुलंद नहीं की है.  



Find Us on Facebook

Trending News