तेजस्वी को करारा जवाब देने के लिए मैदान में CM नीतीश की पूरी टीम, एक साथ कह दिया- आप कब इस्तीफा देंगे ?

तेजस्वी को करारा जवाब देने के लिए मैदान में CM नीतीश की पूरी टीम, एक साथ कह दिया- आप कब इस्तीफा देंगे ?

पटना : मेवालाल चौधरी को लेकर बिहार की सियासत में मचा कोहराम थमने का नाम नहीं ले रहा है. भले ही मेवालाल चौधरी ने शिक्षा मंत्री के पद पर इस्तीफा दे दिया हो, लेकिन बिहार का विपक्ष खासकर आरजेडी इस मुद्दे को यूं ही आसानी से जाने देना नहीं चाहती है. तेजस्वी यादव का ताबड़तोड़ हमला जारी है. मेवालाल के जरिए तेजस्वी यादव सीधे-सीधे नीतीश कुमार पर हल्लाबोल रहे हैं. तेजस्वी ने नीतीश सरकार के 14 मंत्रियों में से 8 मंत्रियों पर भी गंभीर आरोप लगाया है. तेजस्वी यादव के इस सियासी फायरिंग का जवाब देने के लिए जेडीयू ने पूरी टीम मैदान में उतार दी है. 

आज यानी शनिवार को जेडीयू ऑफिस में प्रेस कॉन्फेंस का आयोजन किया. जिसमें जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण, कार्यकारी अध्यक्ष अशोक चौधरी, प्रवक्ता संजय सिंह, अजय आलोक और नीरज कुमार शिरकत करते हैं. और एक साथ तेजस्वी यादव पर जवाबी हमला बोला जाता है. प्रेस कॉन्फेंस में जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण नीतीश कुमार ने राजनीतिक पवित्रता का हमेशा ध्यान रखा है. हम न गलत करते है और न ही किसी को फंसाते हैं. इसी नीति पर नीतीश कुमार काम करते हैं. मुझे इस बात का आश्चर्य है कि मेवालाल चौधरी पर तेजस्वी यादव बोल रहे हैं. तेजस्वी यादव को सवाल पूछने का अधिकार नहीं है. उन पर तो खुद अनेकों आरोप है. क्या उन्होंने खुद पर आरोपों पर जवाब दिया है.

वहीं जेडीयू के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक चौधरी ने कहा कि हम न किसी को फंसाते है और न ही किसी को बचाते हैं. मेवालाल चौधरी के मामले में ये दिख चुका है. जो लोग हम पर प्रश्न खड़ा कर रहा है. उनको खुद देखना चाहिए उनका आचरण सार्वजनिक जीवन कैसा है. नीतीश कुमार जब रेल मंत्री थे, तब नैतिकता के आधार पर उन्होंने इस्तीफा दिया. बिहार में सीएम पद से इस्तीफा देकर जीतनराम मांझी को सीएम बनाया था. उम्मीद है अब तेजस्वी यादव भी सार्वजनिक जीवन में आदर्श स्थापित पर विपक्ष के नेता के तौर पर इस्तीफा देंगे. 

पूर्व मंत्री नीरज कुमार ने कहा कि तेजस्वी जी जनादेश नहीं मिला है उसका मातम मना रहे हैं क्या आप. जब हम इंजेक्शन देते हैं ना, तो भष्टाचारी आह करते हैं और जनता वाह करती है. हम अपराध और भष्टाचार पर कभी समझौता नहीं करते हैं. तेजस्वी यादव राजनीति को कहां ले जाना चाहते हैं. भष्टाचार के साथ साथ आप कई आपराधिक मामला दर्ज है. लालू फैमली में भष्टाचार करना डैली नीड एसेट में है. तेजस्वी यादव को सदन में शपथ लेते वक्त अपने उपर लगे सभी धाराओं का भी जिक्र करना चाहिए.

 

Find Us on Facebook

Trending News