तेजस्‍वी यादव ने बद्री कुमार पूर्वे के लिए मांगा वोट, कहा - लालू यादव को जेल भेजने वालों को दें करारा जवाब

 तेजस्‍वी यादव ने बद्री कुमार पूर्वे के लिए मांगा वोट, कहा - लालू यादव को जेल भेजने वालों को दें करारा जवाब

मधुबनी:  बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने आज लोहट के चीनी मैदान में महागठबंधन के उम्‍मीदवार सह विकासशील इंसान पार्टी के नेता बद्री कुमार पूर्वे के पक्ष में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान तेजस्‍वी यादव ने कहा कि गरीबों के नेता लालू प्रसाद यादव एक शेर हैं और उन्‍होंने हमेशा फिरका परस्‍त ताकतों का कमर तोड़ने का काम किया है। इस वजह से भाजपाई उन्‍हें साजिश के तहत जेल में डाल कर नागपुरिया कानून लाने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन हम ये होने नहीं देगें। यह चुनाव देश की दशा और दिशा बदलने वाला है। आज भले लालू जी जेल में हैं, लेकिन उनके विचार आज भी हमारे बीच है। समाज के दबे - कुचले लोगों के संघर्ष के लिए लालू प्रसाद यादव और उनके विचारों को मानने वाले लोग कोई भी कुर्बानी देने को भी तैयार हैं। इसलिए ऐसे लोगों को आज करारा जवाब देने के लिए महागठबंधन के उम्‍मीदवार बद्री कुमार पूर्वे को चुनाव चिन्‍ह आदमी व पाल युक्‍त नाव पर बटन दबा कर भारी मतों से जीत दिलाएं।

तेजस्‍वी यादव ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार गरीबों और पिछड़ों को सरकारी नौकरी से बाहर रखना चाहती है,इसलिए अगर मोदी सरकार सत्ता में आई तो सारी नौकरियां चली जायेंगी। ये लोग आरक्षण विरोधी हैं। आरक्षण बढ़ेगा तभी सरकारी नौकरियां मिलेंगी। साथ ही वह मौका भी खत्‍म हो जायेगा, जिसके तहत आप हर पांच साल में अपने पसंद की सरकार चुनते हैं। भाजपा और आरएसएस लोकतंत्र और संविधान विरोधी हैं। ये लोग आगे आपसे मतदान का अधिकार भी छीन लेंगे।

तेजस्‍वी ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर आरोप लगाया कि उन्‍होंने सृजन घोटले में अपनी जान बचाने के लिए पालटी मार कर भाजपा में चले गए। तेजस्‍वी ने कहा कि नीतीश चाचा ने महागठबंधन में आने के वक्‍त कहा था कि मिट्टी में मिल जायेंगे, लेकिन भाजपा में नहीं जायेंगे। लेकिन भाजपा ने उन्‍हें अपने प्रकोष्‍ठ CBI, ED, IT के जरिये उन्‍हें डराया और आज ये डर उनके चेहरे पर साफ दिखता है। तेजस्‍वी ने कहा कि हमारे चाचा ने ही भाजपा को भारत जलाओ पार्टी कहा था। आज वे प्रधानमंत्री से इतने सहमे हुए है कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग भी नहीं करते। अब तो दोनों जगह इनकी  सरकार है। थाली भी पिटवाई थी। लेकिन आज वे भाजपा में ही मिल गए, अब उन्‍हें जनता मिट्टी में मिलायेगी।

उन्‍होंने कहा कि जब भाजपा ने डीएनए की गाली दी थी, तब पलटू चाचा ने ही कहा था कि यह हमको नहीं पूरे बिहार को गाली है। तो फिर आप आज उनके साथ कैसे हो गए। यह‍ तो बिहार के साथ अपमान है। उन्‍होंने कहा कि गलत काम करने वाला ही डरता है। नीतीश कुमार विकास की बात करते हैं,जो चार साल में चार सरकारें दी, वो विकास क्‍या करेंगे। कहते हैं शराबंबदी करवायी, लेकिन आज शराब की होम डिलवरी हो रही है। फिर काहे की शराबबंदी। तेजस्‍वी ने नरेंद्र मोदी पर झूठ बोलने का आरोप लगाया और कहा कि 15 लाख, दो करोड़ रोजगार, स्‍मार्ट सिटी, मेक इन इंडिया आदि के जरिये अच्‍छे दिन की बात कही, लेकिन क्‍या हुआ अच्‍छे दिन का। तब वे हर – हर मोदी का नारा लगवा रहे थे, तब भी हमने कहा था कि ये हर – हर मोदी नहीं, गड़बड़ मोदी हैं। इनकी राजनीति मिलावटी, बनावटी और दिखावटी है। इनसे सावधान रहने की जरूरत है।

विकासशील इंसान पार्टी बद्री कुमार पूर्वे ने कहा कि मधुबनी को जल जमाव की समस्‍या से स्‍थायी निदान, मधुबनी में केंद्रीय विद्यालय की स्‍थापना, अत्‍याधुनिक बस अड्डे का निर्माण और इंजीनियरिंग कॉलेज का निर्माण विकासशील इंसान पार्टी की प्राथमिकता होगी। हमारे एजेंडे में इस संसदीय क्षेत्र में एक केंद्रीयकृत जल - निकासी योजना के द्वारा शहर के सभी नालों का जोड़ने का भी प्रस्‍ताव है। उन्‍होंने कहा कि कौशल आधारित शिक्षा के लिए स्किल इंस्‍टीच्‍यूट, बिस्‍फी में विद्यापति की जन्‍मस्‍थली का सौंदर्यीकरण व टूरिस्‍ट हब का विकास, मिथिला विकास परिषद की स्‍थापना, प्राथमिक शिक्षा में मैथिली को शामिल करना, मत्‍स्‍य, मखान और पान अनुसंधान केंद्र की स्‍थापना, कोल्‍ड स्‍टोरेज की स्‍थापना, वैश्‍य आयोग का गठन, मदर डेयरी की स्‍थापना और यहां से पलायन रोकने के लिए नये उद्योग - धंधे की स्‍थापना करना भी हमारा लक्ष्‍य है। इसलिए मधुबनी की जनता अब भक्‍तों को नहीं, सेवक को वोट करेगी। 

वहीं, राजद विधायक समीर महासेठ ने कहा कि काम के नाम पर देश विरोधी भाजपा और आरएसएस को सांप सूंघ जाता है। उन्‍होंने डबल इंजन की सरकार को किसान विरोधी बताते हुए कहा कि किसानों को ना तो फसलों का सही मूल्य मिल रहा है। ना खाद, ना बीज और ना बिजली। मोदी जी ने स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करने का वादा किया था, लेकिन जब सत्ता में आये, तो चोर दोस्‍तों की खिदमत में लग गए। पीएम मोदी ने नौजवानों और किसानों दोनों को ठगा है। किसानों का कर्ज माफ़ करने की बजाय मोदी ने अपने पूंजीपति मित्रों का लाखों करोड़ कर्ज माफ़ किया है। इसलिए आज देश की जरूरत महागठबंधन बन चुकी है और बिहार में महागठबंधन पूरी मजबूती के साथ 40 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। 

Find Us on Facebook

Trending News