तैल चित्र के रूप में उकेरी जाएगी देश के सबसे बड़े पक्षी अभ्यारण्य गोगाबिल झील की खूबसूरती, इस कलाकार को मिली जिम्मेदारी

तैल चित्र के रूप में उकेरी जाएगी देश के सबसे बड़े पक्षी अभ्यारण्य गोगाबिल झील की खूबसूरती, इस कलाकार को मिली जिम्मेदारी

KATIHAR : पलक झपकते ही आपके तस्वीर को बिल्कुल सौ फीसदी कैनवास में उतार देता है फाइन आर्ट के महारथी संदीप। बिहार की राजनीति और प्रशासनिक महकमे से जुड़े कई दिग्गजों की तस्वीर महज 5 से 10 मिनट में अपने पेंसिल से कैनवस में उकेर कर संदीप पहले ही सुर्खियां बटोर चुकी है। लेकिन अब उनके इस प्रतिभा को देखते हुए उन्हें कटिहार स्थित देश के सबसे बड़े पक्षी अभ्यारण गोगाबिल झील के सौंदर्यीकरण के साथ-साथ तैल चित्र के माध्यम से इसे सुसज्जित करने की जिम्मा दिया गया है। जिसको लेकर चित्रकला के ये महारथी  बेहद उत्साहित है।

 संदीप कहते हैं आमतौर पर किसी व्यक्ति विशेष का लाइव आर्ट बनाने में उन्हें 5 से 10 मिनट लगता है, इससे पहले वह अपना प्रतिभा से कई दिग्गजों का इस तरह के चित्र बनाकर उन्हें भेट कर चुका है, सार्वजनिक समारोह में बैठकर पल भर में पूर्णिया कमिश्नर राहुल रंजन महिवाल के तस्वीरर बनाकर वह 5 मिनट में उन्हें तोहफा के रूप में दे दिया।

 फिलहाल पक्षी अभ्यारण गोगाबिल झील को तैल चित्र के माध्यम से सुसज्जित करने की  बड़ी जिम्मेदारी मिलने से कला के ये महारथी बेहद उत्साहित है और आगे अपने पेंटिंग के दम पर इस पूरे इलाकों को नई पहचान देने की कोशिश करने की बात कह रहे है।

बता दें कि बिहार के कटिहार के मनिहारी प्रखंड में स्थित है एक अनोखा गोगाबिल झील जो एक ओर गंगा नदी तो दूसरी ओर महानंदा नदी से घिरे सैकड़ों प्रवासी पक्षियों का आश्रय स्थल है. यहां करीब 73.78 एकड़ सरकारी जमीन पर कंजर्वेशन रिजर्व बनाया गया है. जबकि ग्रामीणों की 143 एकड़ भूमि पर गोगाबिल सामुदायिक पक्षी अभ्यारण्य घोषित किया गया है.

Find Us on Facebook

Trending News