शहीद रौशन का पार्थिव शरीर पहुंचा नालंदा के फतेहपुर गाँव, ग्रामीणों ने दी भावभीनी विदाई

शहीद रौशन का पार्थिव शरीर पहुंचा नालंदा के फतेहपुर गाँव, ग्रामीणों ने दी भावभीनी विदाई

NALANDA : जब तक सूरज चाँद रहेगा तब तक रौशन तेरा नाम रहेगा. इन नारों के बीच नालंदा के शहीद हुए जवान रौशन को अंतिम विदायी दी गई. बुधवार को रौशन छतीसगढ़ के पुलपास कैंप के समीप नक्सलियों द्वारा लगाए गये आईडी बम विस्फोट में शहीद हो गए थे. शहीद रौशन का पार्थिव शरीर गुरुवार की दोपहर उनके पैतृक गांव नालन्दा के फतेहपुर पहुँचा. शव पहुँचते ही पूरे गाँव का माहौल गमगीन हो गया. अपने लाल की एक झलक देखने के लिए ग्रामीणों का हुजूम उमड़ पड़ा.

इसके बाद जिले के अधिकारियों, नेताओं और सैन्य अधिकारियों ने नम आंखों से उन्हें श्रद्धाजंलि दी. शहीद जवान रौशन सीआरपीएफ के 195 बटालियन के जवान थे. वे मंगलवार की रात्रि सर्च ऑपरेशन के लिए कैम्प से निकलकर वापस कैम्प लौट रहे थे. इसी दौरान बुधवार की सुवह करीब सात बजे पुलपास कैम्प से करीब सात सौ मीटर पहले ही नक्सलियों द्वारा लगाई गई आईडी बम ब्लास्ट में शहीद हो गए. जवान के पार्थिव शरीर गाँव पहुँचने पर सीआरपीएफ और नालन्दा पुलिस द्वारा राजकीय सम्मान के साथ गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. 

इस दौरान ग्रामीणों ने रौशन अमर रहे का नारा लगाया. श्रद्धांजली के बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया।.गौरतलब है कि सीआरपीएफ जवान रौशन कुमार ने फतेहपुर गांव में एक छोटे गरीब किसान के घर जन्म लेने के बाद बचपन मे ही पढ़ाई के दौरान ही देश सेवा करने का प्रण लिया था. अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद वर्ष 2017 सीआरपीएफ के 195 बटालियन में जवान के रूप में चयनित होकर छतीसगढ़ के सुकमा में ज्वाईन किया था. उनकी उम्र अभी मात्र 23 वर्ष थी. 

इस मौके पर बिहार के ग्रामीण विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार, सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार ,विधायक रवि ज्योति, सीआरपीएफ कैम्प राजगीर के प्राचार्य आई बी के सिंह, नालन्दा के डीएम योगेंद्र सिंह, एसपी नीलेश कुमार के अलावा कई जनप्रतिनिधि , अधिकारियों और ग्रामीणों ने उनके पार्थिव शरीर पर श्रद्धासुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी.

 इस मौके पर मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हुए शहीद रौशन कुमार ने वीरता का परिचय देते हुए कुर्बानी देने का काम किया है. उन्होंने यह कुर्बानी राष्ट्र के लिए दिया है. उन्होंने अपनी कुर्बानी देकर राष्ट्र को नुकसान नहीं होने दिया. समाज की रक्षा के लिए उन्होंने अपनी कुर्बानी देने का काम किया. उन्होंने पीड़ित परिवार से  मुलाकात की और शहीद रौशन के पार्थिव शरीर पर श्रद्धा सुमन अर्पित किया.  इस मौके पर उन्होंने कहा कि सपूत को नमन करता हूं परिवार को इस दुख की घड़ी में धैर्य धारण करने की क्षमता भगवान दें. उन्होंने कहा कि वीर सपूत के परिजनों को सरकार द्वारा हर संभव मदद करने का काम किया जाएगा. 

नालंदा से राज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News