परिवार के साथ बैलगाड़ी पर बैठकर घूमते नजर आए भारत के मुख्य न्यायाधीश, हो गए भावुक, कहा - बचपन की आई याद

परिवार के साथ बैलगाड़ी पर बैठकर घूमते नजर आए भारत के मुख्य न्यायाधीश, हो गए भावुक, कहा - बचपन की आई याद

DESK : देश के मुख्य न्यायाधीश बैलगाड़ी की सवारी करते हुए नजर आए। उनके साथ उनका पूरा परिवार भी बैलगाड़ी पर बैठकर पूरे गांव में घूमे। यह तस्वीरें हैं आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के पोन्नवरम गांव की। जहां सीजेआई एनवी रमना शुक्रवार को पूरे परिवार के साथ पहुंचे। पोन्नावरम सीजेआई का पैतृक गांव है। जहां नई जिम्मेदारी मिलने के बाद वह पहली बार पहुंचे थे। 

देश की न्यायिक व्यवस्था के सबसे बड़े पद की जिम्मेदारी मिलने के बाद सीजेआई रमना के गांव पहुंचने की खुशी यहां के लोगों में भी नजर आई। उन्होंने फूलों से सजी बैलगाड़ी पर उन्हें पूरे गांव में घूमाया। CJI के साथ उनकी पत्नी और परिवार के अन्य सदस्य भी बैलगाड़ी पर बैठे और पूरे गांव की सैर की। इस दौरान गाजे-बाजे के साथ उन पर फूलों की बारिश होती रही। ग्रामीण पैदल ही उनके साथ घूमते रहे। 

गांव वालों के स्वागत से रमना भी भावुक हो गए 

गांव वालों के स्वागत से रमना भी भावुक हो गए।  गांव वालों से उन्होंने तेलुगू में बातचीत की। उन्होंने स्वागत के लिए सभी को धन्यवाद करते हुए कहा कि देश प्रगति कर रहा है, लेकिन कई समस्याएं अब भी बनी हुई हैं। उन्होंने इस दौरान सभी को समस्याओं से मुकाबला करने के लिए एकजुट होने की अपील की। चीफ जस्टिस एनवी रमना ने कहा कि वह अपनी मातृभाषा तेलुगू और अपनी जन्मभूमि से बहुत प्यार करते हैं।

बचपन के दिनों को किया याद

ग्रामीणों को संबोधित करते हुए चीफ जस्टिस एनवी रमना भावुक नजर आए। उन्होंने अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कहा कि उनके पिता कम्युनिस्ट पार्टी के समर्थक हुआ करते थे। इसलिए वह (न्यायमूर्ति रमना) स्वतंत्र पार्टी की विचारधारा को पसंद करते थे। उन्होंने कहा, 'मैंने हमेशा चाहा है कि सभी लोगों को जाति, नस्ल और धर्म से ऊपर उठ कर एक साथ रहना चाहिए।' न्यायमूर्ति रमना राज्य की तीन दिनों की यात्रा पर हैं और इस दौरान वह कई कार्यक्रमों में शरीक होंगे।


Find Us on Facebook

Trending News