रेलवे ठेकेदार का गला रेत शव गड्ढे में फेंका, पैसों को लेन-देन को बताया जा रहा है हत्या का कारण

रेलवे ठेकेदार का गला रेत शव गड्ढे में फेंका, पैसों को लेन-देन को बताया जा रहा है हत्या का कारण

MADHEPURA :-मठाही पुलिस शिविर क्षेत्र के मठाही वार्ड-3 में मठाही से दक्षिण एवं दुबियाही से पश्चिम एक खेत में 36 वर्षीय युवक की लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। जानकारी के मुताबिक उक्त युवक घैलाढ़ प्रखंड के परमानंदपुर ओपी क्षेत्र के झिटकिया पंचायत के जागीर जयपुरा वार्ड-01 निवासी स्व.  उत्तमलाल यादव का पुत्र अजय यादव के रूप मे पहचान की गयी। मृतक अजय ने पिछले 6 माह से चकला चौक पर किराये के मकान में रहकर रेलवे के अंडर पास लेकर बन रहे पुल का सेटरीग के ठेकेदारी का काम करता था। 

मृतक अपने पीछे पत्नी एवं दो नाबालिक लड़का राजेश एवं रजनीश को छोड़ गया। पत्नी माला देवी एवं 10 वर्षीय पुत्र राजेश कुमार ने बताया कि बुधवार को संध्या 5 बजे अजय को रंजीत कुमार नामक एक साथी ने इंजीनियर से पैसा की मांग करने के नाम पर घर से बुला कर ले गया था। पत्नी माला देवी ने बताया कि रंजीत ने अजय को कहा कि कार्य करवा रहे इंजिनियर आज डेरा पर आया है चलों उसको 2-4 आदमी के साथ जाकर धमकी देगें और बाकी पैसा की मांग करेगें। रंजीत के अलावा संतोष, चंदन, दिनेश यादव एवं विजय यादव नामक व्यक्ति शामिल हाेने की बात बतायी जा रही है। जिसमें दिनेश यादव मृतक के जीजाजी एवं विजय यादव मृतक के बड़े भाई सहित अन्य दो मित्र होने की बात बतायी जा रही है।

रेलवे इंजिनियर से पैसे वसूलने गया था मृतक

 इंजिनियर पर 4 लाख रूपये बकाये होने की बात सामने आ रही है। अजय के घर से निकलने के बाद जब पूरी रात घर वापस नही आया तो सुबह 5 बजे के लगभग पत्नी एवं बेटा राजेश के साथ रंजीत के घर पर अपने पति की खोज में जा रही थी कि इसी क्रम में मृतक के पुत्र राजेश को पता चला कि चकला चौक से पश्चिम एनएच 107 के दक्षिण एक पानी भरें गढ्ढे में  विक्रांत बाइक लावारिस अवस्था में देखकर हल्ला मच रही थी। जब पत्नी एवं बेटा जा कर देखा तो अजय का बाइक गढ्ढे में पड़ा था। इसके बाद दोनो मठाही पुलिस शिविर पहुंच कर इसकी सूचना दी तब तक मठाही वार्ड 3 से ग्रामीणों के द्वारा खेत में गला रेता हुआ एक शव होने की सुचना पुलिस को मिल चुकी थी। मृतक के दोनो परिजनाें ने घटना स्थल पर जाने के बाद अजय की लाश का देखते ही दहाड़ मार कर रोने लगी।

 सूचना पाकर घटना स्थल पर पहुंचे दरोगा अशोक कुमार सिंह अपने दल बल के साथ पहुंच कर छानबीन में जूट गई एवं मधेपुरा सदर थाना को सुचना दिया गया, इसके बाद सदर थानाध्यक्ष सुरेश प्रसाद सिहं पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। 

भाभी को पत्नी बनाकर रखे हुए था साथ

सुत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अजय की शादी नही हुई थी। मृतक अपने भाभी माला देवी से कुछ वर्षो पूर्व प्रेम-प्रसंग में फस कर शादी कर लिया था। जो कि आज माला देवी अपने पति का नाम अजय बता रही है। ऐसे माला की शादी लगभग 15 वर्ष पूर्व विजय यादव से हुई थी। इसके दस साल के बाद जब माला एवं अजय का प्रेम सबंध गहरा हो गया तो माला एवं अजय पिछले 1 वर्ष से गांव से बाहर अजय यादव आपने भाभी को लेकर अपना पत्नी बता कर अपने पत्नी माला एवं एक बेटा से साथ रहता था।

Find Us on Facebook

Trending News