बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

LATEST NEWS

पितृपक्ष मेला को लेकर गया डीएम ने अधिकारियों और पंडा समाज के साथ की बैठक, साफ़, सफाई सहित दिए कई निर्देश

पितृपक्ष मेला को लेकर गया डीएम ने अधिकारियों और पंडा समाज के साथ की बैठक, साफ़, सफाई सहित दिए कई निर्देश

GAYA : पितृपक्ष मेला 2023 के सफल आयोजन तथा देश विदेश से आने वाले तीर्थयात्रियों को बेहतर से बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मेला क्षेत्र के साथ साथ सभी वेदी स्थल में पूर्व से किये जाने वाले आधारभूत सुविधाओं यथा साफ सफाई, पेयजल व्यवस्था, पर्यपत टॉयलेट, तालाब के काई की सफाई, सीढ़ी की मरम्मती, घाटों/ रास्तों/ तालाबों/ सरोवर में पर्याप्त रोशनी, भीड़ नियंत्रण की वैकल्पिक व्यवस्था, नियमित ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव, कुंडो की सफाई, यात्रियों को बैठकर तर्पण करने की व्यवस्था आदि के संबंध में किये जा रहे तैयारियों का समीक्षा आज जिला पदाधिकारी, गया डॉ० त्यागराजन एसएम द्वारा समाहरणालय सभगार में सम्बंधित पदाधिकारी एवं पंडा समाज के पुरोहितो के साथ की गयी। विदित हो कि इस वर्ष पितृपक्ष मेला 28 सितंबर से शुरू होकर 14 अक्टूबर तक चलेगा। इस 15 दिनों में लाखों तीर्थयात्री तर्पण करने यहां आते हैं। प्रशासन द्वारा हर स्तर पर उनकी सुविधाओं को उपलब्ध करवाने के लिये बेहतर से बेहतर काम करवा रहे हैं, ताकि यात्रियों को कोई छोटी से छोटी भी असुविधा न हो सके।

ज़िला पदाधिकारी ने सभी विभागों को निर्देश दिया है की अपने कार्यक्षेत्र में आवंटित सभी कार्यो को हर हाल में 15 सितंबर तक पूर्ण कर ले, ताकि अंतिम समय जो बचेगा।  उसमे मेला का एक अच्छी रूप रेखा दिया जा सके। गया ज़िला में जिन प्रमुख सडकों से पिंडदानी गया ज़िला प्रवेश करते हैं यथा डोभी, बाराचट्टी, आमस, गया पटना इत्यादि सड़को में जहां कहीं कोई खराबी है, उसे ठीक करवाये। साथ ही शहर के अंदर यथा मानपुर बाईपास सड़क जो 05 नंबर गेट ( ota) से लेकर सीताकुंड ब्रिज तक के सड़को को हर हाल में 30 अगस्त तक बनवाना सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया है। डंडिबाग़ के निचले हिस्से से आयुर्वेदिक कॉलेज जाने वाली सड़क को मरम्मत करवाने का निर्देश दिया है। मेला क्षेत्र की सड़कें यथा विष्णुपद, चांद चौरा, बंगाली आश्रम, दखिन दरवाजा, माड़णपुर, अक्षयवट, नारायण चुआ, प्रेतशिला, रामशिला, बिसार तालाब, पितमहेस्वर आदि के समीप खराब सड़को को हर हाल में अगस्त अंतिम तक बनवाना सुनिश्चित करे।

ज़िला पदाधिकारी ने बुडको के अभियंताओं को स्पष्ट निर्देश दिया कि अब कोई भी सड़क को नहीं काटा जाए, पूर्व के काटे गए सड़को को तेजी से रिस्टोर करे। साथ ही जहां भी पानी लीकेज का समस्या है, उसे पर्याप्त मैन पावर टीम लगाकर लीकेज को ठीक करवाये। अक्षयवट की ओर जाने वाली सड़क में पानी लीकेज की समस्या पर डीएम ने निर्देश दिया कि 09 अगस्त से 15 अगस्त के बीच उक्त स्थल पर के लीकेज को ठीक करवाये। साथ ही उक्त तिथि में आमजनों को पानी की कोई विशेष समस्या नो हो, उसके लिये वैकल्पिक व्यवस्था करवाने को कहा। साथ ही नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि अपने स्तर स लोगो के बीच प्रचार प्रसार करवाये की उक्त तिथि में पानी सप्लाई थोड़ा डिस्टर्ब रहेगा। डीएम ने बुडको के पदाधिकारियों को कहा कि आप अपनी उपस्थिति में पर्यापत टीम लगाकर कार्य करवाये। डीएम ने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि मेला क्षेत्र में विभिन्न नालों के मेनहोल को ढकवाने हेतु अभी से ही कार्य करे। पूरी अच्छे तरीके से सर्वेक्षण करवाले। खुले नालो के उपर ढक्कन करवाये।

बैठक में बताया गया कि घाट पर ही किसी स्थानीय द्वारा खटाल खोल लिया गया है। इस पर डीएम ने अनुमंडल पदाधिकारी सदर को निर्देश दिया कि उक्त मामले में मापी करवाते हुए अतिक्रमण वाद चलाकर खटाल हटवाना सुनिश्चित करे। इसके अलावा मेला क्षेत्र के विभिन्न प्रमुख सड़को पर खटाल एवं पशु को बांध कर रखते हैं, इस पर निर्देश दिया कि संबंधित को नोटिस करते हुए आवश्यक कार्रवाई करे। डीएम ने सभी पंडा पुरोहितो से अपील किया है कि फल्गु नदी को स्वच्छ रखने में आपकी अहम भूमिका रहेगी। आप अपने स्तर से स्थानीय पंडितो के साथ साथ पिंडदानियों में व्यवहार परिवर्तन कराने की आवश्यकता है। पिंडदान के पश्चात पिंड अवशिष्ट एवं अन्य सामान जो नदी में प्रवाहित किया जाता है, जिससे फल्गु का पानी गंदा होने की पूरी संभावना रहेगी।

वहीँ लोगो से अपील करते हुए डीएम ने कहा फल्गु को साफ रखने में विशेष पहल में सहयोग करे। सामग्रियों को प्रवाहित के लिये घाट पर बड़े बड़े पीट( पक्का स्ट्रक्चर) बनाया गया है, जहां पिंडदानी अपना पूजन सामग्री वहां डाल सकते हैं। साथ ही बड़े आकार के dustbin भी लगाया गया है। बैठक में नगर आयुक्त, उप विकास आयुक्त, सहायक समाहर्ता, वरीय उप समाहर्ता रविन्द्र कुमार दिवाकर, अनुमंडल पदाधिकारी सदर, पुलिस उपाधीक्षक नगर, भूमि सुधार उप समाहर्ता सहित सभी कोषांग के वरीय एवं नोडल अधिकारी उपस्थित थे।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Suggested News