सीएम नीतीश के विधि व्यवस्था की समीक्षा बैठक का दिखा असर, बिहार के कई जेलों में हुई छापेमारी

सीएम नीतीश के विधि व्यवस्था की समीक्षा बैठक का दिखा असर, बिहार के कई जेलों में हुई छापेमारी

PATNA : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कल ही विधि व्यवस्था को लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। जिसका असर एक दिन बाद ही देखने को मिला। आज बिहार के कई जिलों के जेलों में छापेमारी की गयी है। जिससे अपराध पर नियंत्रण और अपराधिक गतिविधियों में कमी लायी जा सके। इसी सिलसिले में आज मसौढ़ी उपकारा में भी छापेमारी की गई। हालांकि इस छापेमारी में कोई भी आपत्तिजनक सामान बरामद नहीं हुआ है। मसौढ़ी उपकारा में हुए छापेमारी के दौरान मसौढ़ी एएसपी वैभव शर्मा और मसौढ़ी एसडीओ अनिल कुमार सिन्हा मौजूद थे। छापेमारी के दौरान भारी संख्या में पुलिस बल भी मौजूद थी। जेल में अचानक छापेमारी से कैदियों में हड़कंप मच गया। छापेमारी के बाद मसौढ़ी एएसपी वैभव शर्मा ने बताया कि उन्होंने वरीय अधिकारियों के आदेश के बाद अपने क्षेत्र के मसौढ़ी उपकारा में छापेमारी की थी। छापेमारी के दौरान कोई भी आपत्तिजनक सामान नहीं मिला है। 

उधर बगहा जेल में भी छापेमारी होने से कैदियों के बीच हड़कंप मच गया। आईएएस दीपक मिश्रा के नेतृत्व में जेल के सभी वार्डों में कैदियों की गहन तलाशी ली। छापेमारी के दौरान SDM औऱ SDPO के साथ भारी संख्या में पुलिस के जवान मौजूद थे। बता दें की जेल में कई खूंखार नक्सली औऱ दस्यु सरगना बंद हैं। 

वहीँ बिहारशरीफ मंडल कारा में डीएम और एसपी के नेतृत्व में सघन छापेमारी अभियान चलाया गया। जिसमें विभिन्न वार्डो से सिम समेत दो मोबाइल सेट बरामद किया गया। मोबाइल फोन बरामद होने से जेल प्रशासन को अधिकारियों को जबाब देने में हाथ पैर फूलने लगे। मुख्यालय के आदेश पर डीएम शशांक शुभंकर और एसपी अशोक मिश्रा भारी संख्या में पुलिस बलों  के साथ अहली सुबह जेल पहुचकर सभी वार्डो की सघन जांच की। छापेमारी तक बंदियों और जेल अधिकारियों व कर्मियों में हड़कंप मचा रहा। डीएम शशांक शुभंकर ने बताया कि दो सिम समेत मोबाइल सेट बरामद किया गया। कड़ी सुरक्षा के बीच बंदियों तक किस तरह मोबाइल सेट पहुंचा इसकी जांच की जाएगी। जांच में जो भी दोषी होगें उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।  जप्त किए गए मोबाइल सेट अन्य तरह के अपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया गया है या किसके साथ कनेक्शन है इसकी भी जानकारी इकट्ठा किया जाएगा। ताकि इस तरह के नेटवर्क को ध्वस्त किया जा सके। छापेमारी में सदर डीएसपी डॉ शिब्ली नोमानी, डीसीएलआर प्रभात कुमार, दीपनगर थानाध्यक्ष मो मुश्ताक अहमद के अलावे भारी संख्या में पुलिस लाइन के जवान मौजूद थे।

भागलपुर में भी जिला प्रशासन एवं पुलिस के पदाधिकारियों की संयुक्त टीम ने केंद्रीय एवं कैंप जेल में छापेमारी की। हालांकि इस छापेमारी में टीम को कुछ भी प्रतिबंधित सामग्री नहीं मिली। सदर एसडीओ धनंजय कुमार एवं एसपी सिटी स्वर्ण प्रभात की अगुवाई वाली टीम ने सेंट्रल जेल एवं महिला जेल के विभिन्न बैरकों की तलाशी ली। साथ ही टीम ने जेल परिसर का निरीक्षण किया। जबकि एडीएम राजेश कुमार झा राजा व एएसपी सिटी शुभम आर्या की अगुवाई वाली टीम ने कैंप जेल के बैरकों की तलाशी ली और परिसर का निरीक्षण किया। इस दौरान जांच के दौरान किसी भी बैरक या फिर बंदी के पास से प्रतिबंधित सामग्री नहीं पायी गयी। इस मौके पर एसपी सिटी स्वर्ण प्रभात ने बताया कि अपराध के प्रति जीरो टालरेंस की नीति के तहत सरकार के निर्देशानुसार, भागलपुर के केंद्रीय कारा, महिला कारा व कैंप कारा में छापेमारी की गयी। लेकिन यहां से कोई प्रतिबंधित सामग्री नहीं मिली। इस मौके पर निरीक्षण के दौरान केंद्रीय कारा एवं कैंप कारा के अधीक्षक आदि की मौजूदगी रही।

बगहा से माधवेन्द्र, भागलपुर से बालमुकुन्द और नालंदा से राज की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News