बाबा नगरी देवघर में नहीं किया जाता है राक्षसपति रावण का पुतला दहन, जानिए वजह

बाबा नगरी देवघर में नहीं किया जाता है राक्षसपति रावण का पुतला दहन, जानिए वजह

DEOGHAR : बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक के रुप में दशहरा का पर्व मनाया जाता है. यही कारण है कि देश के कोने-कोने में और विदेशों में भी लोग दशहरा के अवसर पर बुराई के प्रतीक रावण का पुतला दहन कर खुशियाँ मनाते हैं और एक दूसरे को इस विजय पर विजयादशमी की शुभकामनायें देते हैं.

इसे भी पढ़े : पटना में सिंदूर खेल महिलाओं ने दी मां दुर्गा को विदाई, इस बार गंगा किनारे तालाब में हो रहा विसर्जन

लेकिन अन्य जगहों की परंपरा से अलग हट कर देवघर में विजयादशमी के अवसर पर रावण का पुतला दहन नहीं किया जाता है. जानकारों की मानें तो देवघर में रावण के द्वारा ही पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग की स्थापना की गयी है. यही कारण  है कि देवघर को रावण की तपोभूमि माना जाता है और यहाँ स्थापित पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग को रावणेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है. जानकारों के मुताबिक रावण की पहचान दो रुपों में की जाती है. एक तो राक्षसपति दशानन रावण के तौर पर और दूसरा वेद-पुराणों के ज्ञाता प्रकांड पंडित और विद्वान रावण के रुप में. 

इसे भी पढ़े : TMC सांसद के दुर्गा पूजा करने पर धर्मगुरु नाराज, कहा-धर्म और नाम बदल लें नुसरत जहां

देवघर में रावण द्वारा पवित्र द्वादश ज्योतिर्लिंग की स्थापना के कारण उसके दूसरे रुप की अधिक मान्यता है. यही कारण है कि रावणेश्वर महादेव की भूमि देवघर में दशहरा के अवसर पर रावण का पुतला दहन नहीं किया जाता है. देवघर में रावण के सात्विक गुण रावण के साहस, वेद ज्ञान और उसकी आस्था आदि की पूजा की जाती है. वैद्यनाथ धाम में रावण पुतला दहन नहीं किया जाता है. 

देवघर से सुनील की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News