जिन नियोजित शिक्षकों ने बनवाएं हैं इन विश्विद्यालयों के नाम पर फर्जी सर्टिफिकेट,उनकी खैर नहीं

जिन नियोजित शिक्षकों ने बनवाएं हैं इन विश्विद्यालयों के नाम पर फर्जी सर्टिफिकेट,उनकी खैर नहीं

PATNA : सर्टिफिकेट का फर्जीवाड़ा कर नियोजित शिक्षक बनने वाले गुरु जी का खैर नहीं। ऐसे फर्जी गुरुजी पर निगरानी  की कड़ी नजर  है।

निगरानी जांच के दौरान यह पाया गया है की कुछ नियोजित शिक्षक वैसे हैं, जो कुछ विश्वविद्यालयों के फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर नौकरी पाने में सफल रहे हैं। निगरानी ने 146 शिक्षकों के प्रमाण पत्र संदिग्ध पाए जाने पर उनकी रिपोर्ट शिक्षा विभाग को सौंप दी है

गौरतलब है निगरानी ने जब फर्जी सर्टिफिकेट पर नियोजित शिक्षकों की जांच शुरू की तो पाया कि करीब 6 विश्वविद्यालयों के नाम पर फर्जी सर्टिफिकेट पेश कर शिक्षक की नौकरी लेने वाले लोग काफी संख्या में हैं।

जिन निजी विश्वविद्यालयों से फर्जी सर्टिफिकेट बनवाया है उनके नाम इस प्रकार हैं....

नार्थ फ्रंटियर टेक्निकल यूनिवर्सिटी अरुणाचल, मोनाड यूनिवर्सिटी हापुड़ उत्तर प्रदेश, जोधपुर नेशनल यूनिवर्सिटी राजस्थान, कोलोकर्स टीचर्स यूनिवर्सिटी गुजरात ,श्री श्री यूनिवर्सिटी कटक ,उड़ीसा ,और बाबा गुलाम शाह बादशाह यूनिवर्सिटी जम्मू।

बता दें कि शिक्षक नियोजन में फर्जीवाड़े को लेकर निगरानी के द्वारा जांच की प्रक्रिया जारी है। विश्वविद्यालयों से फर्जी प्रमाण पत्रों का मामला तब उजागर हुआ जब निगरानी की टीम ने जांच के दौरान निजी विश्वविद्यालयों से प्राप्त प्रमाण पत्रों के बारे में नियोजन इकाइयों व संबंधित शिक्षकों से जानकारी मांगी तो उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी। 

अब निगरानी वैसे लोगों और एजेंसियों को भी रडार पर रखे हुए हैं जो विश्वविद्यालयों के फर्जी सर्टिफिकेट बनाने का धंधा करते हैं। अभी तक 146 शिक्षकों का प्रमाण पत्र फर्जी पाया गया है जिसकी रिपोर्ट निगरानी के टीम ने शिक्षा विभाग को सौंप दी है।

Find Us on Facebook

Trending News