थम गया शादियों का दौरः 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी के बाद लग जाएगा चातुर्मास, अब 4 महीने बाद गूंजेगी शहनाइयां

थम गया शादियों का दौरः 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी के बाद लग जाएगा चातुर्मास, अब 4 महीने बाद गूंजेगी शहनाइयां

DESK: हिंदू धर्मावलंबियों के लिए शादी सहित कोई भी मांगलिक कार्य करने से पहले लग्न, नक्षत्र सहित शुभ मुहूर्त देखने की परंपरा है। हमारे पंचांग में हर साल पड़ने वाली शुभ तिथियों सहित शुभ मुहूर्तों की विवरणी दी रहती है, जिसके हिसाब से ही सनातन धर्मावलंबी शादी सहित अन्य मांगलिक कार्यों का आयोजन करते हैं। इस वर्ष की बात करें तो 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी है, जिसके बाद से चातुर्मास लग जाएगा औऱ मांगलिक कार्यों पर भी रोक लग जाएगी।

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी से चातुर्मास शुरू हो जाएगा, जो कि 14 नवंबर तक रहेगा। तकरीबन इन 4 महीनों के दौरान शुभ कार्यो के लिए मुहूर्त नहीं रहेंगे। इसके बाद 15 दिसंबर से 15 जनवरी के बीच में सूर्य धनु राशि में आ जाएगा। जिसे धनुर्मास कहते हैं। इस एक महीने के दौरान भी शुभ काम नहीं किए जाते हैं।इस हिसाब से साल 2021 में मात्र 10 दिन ही शेष रह जाएंगे, जिनमें मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं। वाराणसी पंचांग के अनुसार, नवंबर में 19, 20, 21, 26, 28, 29 तारीख शुभ हैं, जबकि दिसंबर महीने में 1, 2, 5, 7, 12 और 13 तारीख शुभ हैं। वहीं मिथिला पंचांग की बात करें तो नवंबर महीने में 21, 22 और 29 तारीख का विवरण है। वहीं दिसंबर महीने में 1, 2, 5, 6, 8, 9 और 13 तारीख शुभ हैं। इनके अलावा इस वर्ष कोई शुभ तिथि नहीं है।

देवशयनी एकादशी के संदर्भ में कई पौराणिक शास्त्रों में भी उल्लेख पढ़ने को मिलता है। जिसके अनुसार ये वो विशेष तिथि होती है जब भगवान विष्णु अगले चार मास की अवधि तक पाताल लोक में शयन करते है। इन चार महीनों में कोई भी धार्मिक या मांगलिक कार्य संपन्न नहीं किया जाता। ऐसा माना जाता है कि इस अवधि में किया गया कोई भी शुभ कार्य फलित नहीं होता और व्यक्ति को भगवान का आशीर्वाद नहीं मिलता। हिन्दू पंचांग की माने तो, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी से ही भगवान विष्णु शयन करने के लिए गमन हो जाते है और इसके पश्चात चार माह के बाद ही भगवान के इस शयनकाल की अवधि समाप्त होती है। इस अवधि पर भक्त देवोत्थानी एकादशी मनाते हुए, भगवान को पुनः जगाते हैं।

Find Us on Facebook

Trending News